सब्जी बेचने का व्यापार कैसे शुरू करें? Vegetable Business Plan In Hindi.

सब्जी हर घर में दैनिक जीवन में इस्तेमाल में लायी जाने वाली प्रमुख खाद्य वस्तु है यही कारण है की Vegetable Business करने वाले उद्यमी हमें हर गली मोहल्ले में आसानी से मिल जाते हैं । वह इसलिए क्योंकि सब्जी की आवश्यकता हर घर में प्रतिदिन तीनों पहर के खाने में होती है। कुछ सब्जी जैसे आलू, प्याज इत्यादि को छोड़कर जो जरां लम्बे समय तक चल जाती है के अलावा बाकी सभी सब्जियों को लोग हर रोज ताज़ी ताज़ी खरीदना ही पसंद करते हैं। और इनके दाम भी पैदावार, मांग एवं सप्लाई के आधार पर ऊपर नीचे होते रहते हैं। यहाँ तक की सब्जी मंडियों में हर रोज सब्जियाँ अलग अलग दामों में बिकती हैं लेकिन इन सबके बावजूद लोगों को इन्हें खरीदना ही पड़ता है । Vegetable Business की यदि हम बात करें तो इस बिजनेस को कोई भी व्यक्ति यहाँ तक की अशिक्षित एवं अकुशल व्यक्ति भी आसानी से शुरू कर सकता है। वह इसलिए क्योंकि इस तरह के व्यवसाय को शुरू करने के लिए किसी विशेष कौशल की आवश्यकता नहीं होती है। और इस तरह के व्यवसाय को इच्छुक व्यक्ति द्वारा मात्र कुछ हज़ार रुपयों से भी आसानी से शुरू किया जा सकता है। सब्जियों का मनुष्य जीवन एवं उसके विकास में कितना योगदान होता है वह शायद बताने की आवश्यकता नहीं है। सब्जियाँ पोषण, विटामिन एवं खनिज से सम्पूर्ण होती हैं और अलग अलग सब्जियों में अलग अलग औषधीय गुण भी निहित होते हैं। यही कारण है की लगभग सभी घरों में हर रोज तीनों पहर खाने में कोई न कोई सब्जी अवश्य बन रही होती है। इसलिए ऐसे लोग जो बेहद कम निवेश के साथ कुछ ऐसा व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं जिसकी मांग हर जगह व्यापत है वे Vegetable Business शुरू करने की सोच सकते हैं। आप अपने आप से पूछिए की क्या कभी आप बिना किसी सब्जी के रोटी या अन्य खाना पसंद करते हैं । आपको इस प्रश्न का जवाब खुद ही मिल गया होगा क्योंकि अधिकतर व्यंजन बनाने में किसी न किसी रूप में सब्जियों का इस्तेमाल होता ही होता है। इसलिए सब्जियों की मांग देश के हर कोने में हमेशा बनी रहती है।

Vegetable Business plan in hindi

सब्जी बेचने का व्यापार क्या है (What is Vegetable Business)

जहाँतक सब्जी बेचने के व्यापार की बात है यह एक बेहद ही सरल एवं आम व्यापार है इसमें उद्यमी सब्जी मंडी या किसानों से सब्जी खरीद रहा होता है। और उस खरीदी हुई सब्जी को ख़रीदे गए दामों से थोड़े उच्च दामों पर अपने ग्राहकों को बेच रहा होता है। चूँकि सब्जियों में अधिकतर सब्जियाँ ऐसी होती हैं जो समय पर नहीं बिकी और उन्हें उचित देखभाल प्राप्त नहीं हुई तो वह ख़राब भी हो सकती है। शायद यही कारण है की कुछ लोग Vegetable Business को थोड़ा जोखिमभरा बिजनेस भी मानते हैं। लेकिन सब्जी की मांग हर जगह उपलब्ध होने के कारण और इसे बेहद कम निवेश के साथ शुरू किये जाने वाले गुण के चलते इस तरह के व्यवसाय को शुरू करने की भी लालसा अधिकतर लोगों की रहती है। यानिकी किसी स्थान, दुकान से सब्जी बेचने का काम ही सब्जी बेचने का व्यापार कहलाता है।

सब्जी की बिक्री की संभावना

इस ब्रहमांड में स्थित सभी प्रकार के जीवों के जीवित रहने के लिए जो सबसे महत्वपूर्ण वस्तु है उसका नाम भोजन है। जहाँ तक मनुष्य के भोजन की बात है उनमें सब्जियों का सर्वश्रेष्ठ एवं ऊँचा स्थान है। क्योंकि इन्हें किसी भी प्रकार के भोजन के साथ आसानी से शामिल करके उसे एक पूर्ण आहार का रूप दिया जा सकता है। दुनिया में भोजन का उत्पादन किसान करते हैं इसलिए इन्हें सम्मानित दृष्टी से देखा जाता है और भोजन प्रदाता के नाम से भी जाना जाता है। लेकिन इनका काम फसल एवं अनाज का उत्पादन करके उन्हें स्थानीय मंडियों में बेच देने तक ही सिमित है बाकि भोजन के वितरण के लिए अनेकों लोग इसमें शामिल होते हैं। इनमें बड़े पैमाने पर थोक एवं फुटकर विक्रेता शामिल होते हैं जहाँ तक Vegetable Business की बात है इसमें कोई दो राय नहीं की सब्जियों की आवश्यकता हर घर में हर दिन एक बार नहीं बल्कि दिन के तीनों पहर में होती है। इसलिए इसमें सब्जी बेचने वाला व्यापारी किसानों एवं ग्राहकों के बीच की कड़ी है जो सब्जी वितरण प्रणाली का अहम् हिस्सा है। सब्जी बेचने के लिए उद्यमी किसी भी गली में खड़ा हो सकता है क्योंकि यह उत्पाद हर किसी की पहुँच में है और हर किसी को इसकी आवश्यकता है इसलिए पूरी दुनिया इसकी आंशिक ग्राहक है। सब्जी बेचने के इस काम को सफल बनाने के लिए उद्यमी को बहुत अधिक मार्केटिंग की भी आवश्यकता नहीं होती है बस उसे अपने ग्राहकों को उचित दरों पर गुणवत्तायुक्त सब्जी प्रदान करनी होती है। उसके बाद इस Vegetable Business में कोई एक व्यक्ति भी उद्यमी का रोज का ग्राहक बन सकता है इसलिए ग्राहकों से विनम्र एवं शिष्टता से पेश आना भी उद्यमी के इस व्यवसाय की सफलता का कारण बन सकता है।

सब्जी बेचने का व्यापार कैसे शुरू करें? (How to Start Vegetable Business in India):

Vegetable Business यानिकी सब्जी के व्यापार को उद्यमी दो तरीके से शुरू कर सकता है उद्यमी चाहे तो सब्जी का थोक व्यापार शुरू कर सकता है या फिर चाहे तो रिटेल व्यापार शुरू कर सकता है। फर्क सिर्फ इतना है की थोक व्यापार में उद्यमी को बड़े पैमाने पर सब्जियाँ खरीदकर सब्जी के फुटकर विक्रेताओं को बेचनी होंगी। जबकि सब्जी के रिटेल व्यापार में उद्यमी को सब्जियाँ सीधे उपभोक्ताओं को बेचनी होंगी। और थोक व्यापार शुरू करने में बड़ा निवेश करना होगा। तो आइये जानते हैं की कैसे कोई व्यक्ति खुद का सब्जी बेचने का व्यापार शुरू कर सकता है।

1. स्थानीय रिसर्च करें

Vegetable Business शुरू करने से पहले उद्यमी को स्थानीय तौर पर बहित सारी बातों पर रिसर्च करनी आवश्यक होती है इसमें सबसे पहली बात यह है की उद्यमी सस्ते दामों में सब्जी खरीदेगा कहाँ से? इसके अलावा उस एरिया विशेष में होटल, ढाबों एवं अन्य भोजनालयों की क्या स्थिति है। क्योंकि अक्सर देखा गया है की होटल, ढाबे, भोजनालय इत्यादि सब्जियों की बड़ी पैमाने पर खरीदारी करते हैं। इसलिए एक ऐसा एरिया जहाँ पर इनकी संख्या अधिक हो सब्जी के व्यापार चलने की अधिक संभावना होती है। वैसे देखा जाय तो सब्जी का व्यवसाय एक ऐसा व्यवसाय है जिसके आंशिक ग्राहक हर जगह मौजूद हैं। लेकिन इसके बावजूद भी उद्यमी को उस एरिया विशेष में प्रतिस्पर्धा का मूल्यांकन करना भी अति आवश्यक है। प्रतिस्पर्धा का मूल्यांकन करने के लिए उद्यमी को उस एरिया विशेष में उपलब्ध सब्जी की दुकानों की संख्या एवं उस एरिया में आने वाले अनुमानित ग्राहकों की संख्या की जानकारी होना भी आवश्यक है।      

2. रिटेल या थोक व्यापार का निर्णय लें (Choose Types of vegetable Business)

अब जब उद्यमी द्वारा स्थानीय स्तर पर रिसर्च कर ली गई हो और उस आधार पर वह Vegetable Business करने का निर्णय ले चूका हो। तो उसके बाद उद्यमी का अगला कदम इस बात को लेकर होना चाहिए की वह इस तरह का यह व्यापार थोक स्वरूप में शुरू करना चाहता है या फिर रिटेल या फुटकर स्वरूप में। यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है की सब्जी का थोक व्यापार शुरू करने में उद्यमी को फुटकर व्यापार की तुलना में आधिक निवेश करने की आवश्यकता होगी। इसके अलावा फुटकर व्यापार में जहाँ उद्यमी सब्जी अंतिम उपभोक्ता को बेच रहा होता है वहीँ थोक व्यापार में फुटकर विक्रेता उसके ग्राहक होते हैं। थोक व्यापार शुरू करने के लिए उद्यमी को उस एरिया विशेष की प्रसिद्ध सब्जी मंडी में दुकान लेने की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि आस पास के किसान अपनी सब्जी बेचने एवं फुटकर विक्रेता भी सब्जी लेने उसी सब्जी मंडी में आयेंगे। जबकि सब्जी का फुटकर व्यापार शुरू करने के लिए उद्यमी स्थानीय बाजार में कहीं दुकान, रेहड़ी या फिर तिरपाल डालकर भी सब्जी बेच सकता है। इसलिए अब उद्यमी को इस बात का निर्णय लेना होता है की वह Vegetable Business को किस स्वरूप में शुरू करने की योजना बना रहा है।        

3. दुकान या रेहड़ी (choose Stall or Shop for Vegetable Business)

अब यदि उद्यमी ने इस बात का निर्णय ले लिया है की वह थोक विक्रेता के तौर पर काम करेगा या फिर फुटकर विक्रेता के। तो अब उद्यमी का अगला कदम उसी आधार पर दुकान , रेहड़ी, जगह इत्यादि का प्रबंध करने का होना चाहिए। यदि उद्यमी थोक व्यापारी के रूप में सब्जी बेचने का व्यापार करना चाहता है तो उसे किसी प्रसिद्ध सब्जी मंडी में दुकान लेने की आवश्यकता होगी ताकि वह किसानों से सब्जी खरीदकर फुटकर विक्रेताओं को उसे लाभकारी दामों में बेच सके। लेकिन यदि उद्यमी फुटकर व्यापारी के तौर पर Vegetable Business शुरू करना चाहता है तो वह किसी रेहड़ी, पहले से बनी बनाई दुकान, किसी जगह विशेष में तिरपाल ओढ़कर भी सब्जी बेच सकता है । हर एरिया में कोई न कोई छोटी बड़ी सब्जी मंडी अवश्य होती है उस स्थान विशेष में लोग खासकर सुबह शाम सब्जी खरीदने आते हैं । ऐसी जगह पर उद्यमी को दुकान की भी आवश्यकता नहीं होती बल्कि वह तिरपाल ओढ़कर और नीचे चटाई इत्यादि बिछाकर भी सब्जी बेच सकता है। ऐसा साप्ताहिक बाज़ारों एवं दैनिक बाज़ारों में भी होता है लेकिन इसके लिए इन विक्रेताओं को ठेकेदार या नगर निगम इत्यादि को प्रति दिन का कुछ शुल्क अदा करना पड़ता है।      

4. सब्जी मंडी से सब्जी खरीदें (Purchase Vegetables from Local Sabzi Mandi)

अब यदि उद्यमी ने दुकान, जगह रेहड़ी इत्यादि का प्रबंध कर लिया हो तो अब उद्यमी को अपना Vegetable Business शुरू करने के लिए सब्जी खरीदने की आवश्यकता होगी। यदि उद्यमी थोक विक्रेता बनकर सब्जी बेचना चाहता हो तो उसे सीधे किसानों या सब्जी वितरकों से सब्जी खरीदने की आवश्यकता होगी। जबकि फुटकर विक्रेता स्थानीय मंडी से सब्जी खरीदकर इसे बेच सकता है अक्सर इस तरह की सब्जी मंडिया सुबह एवं शाम को ही खुलती हैं इसलिए फुटकर व्यापार शुरू करने वाला उद्यमी चाहे तो हर सुबह मंडी जाकर सब्जी ख़रीदे और उसे अपने एरिया में बेचकर पैसे कमाए।   

5. गली मोहल्लों में सब्जी बेचें (Sell Vegetables and Earn Money)

सब्जी खरीदने के बाद उद्यमी का प्रमुख एवं जरुरी मकसद उस सब्जी को जल्दी से जल्दी बेचने का होना चाहिए क्योंकि जितने कम समय में उद्यमी उस सब्जी को बेच पाने में कामयाब हो पायेगा उतना ही अधिक लाभ कमाने में भी वह सफल हो पायेगा। और चूँकि उसके ग्राहकों को ताज़ी सब्जी मिलेगी इस कारण सब्जी विक्रेता के तौर पर उसकी प्रतिष्ठा भी उस एरिया विशेष में बढ़ेगी। थोक का Vegetable Business करने वाले उद्यमी के पास फुटकर विक्रेता खुद ही सब्जी लेने आयेंगे । इसलिए उद्यमी को बहुत अधिक मार्केटिंग करने की आवश्यकता तो नहीं होगी। लेकिन इस व्यवसाय में एक ग्राहक उद्यमी का स्थायी ग्राहक भी बन सकता है इसलिए सभी ग्राहकों के साथ नम्रता एवं शिष्ट होकर पेश आना अत्यंत आवश्यक है। यह दोनों स्वरूपों फुटकर एवं थोक में लागू होता है।

अन्य लेख भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *