टोमेटो सॉस निर्माण बिजनेस. Tomato Sauce Manufacturing Business.

Tomato Sauce की यदि हम बात करें तो इसे कैट्सअप, केटसअप, रेड सॉस और टोमेटो कैचअप के रूप में भी जाना जाता है । यह एक ऐसा आइटम है जिसका इस्तेमाल चटनी एवं एक मसाले के तौर पर होता है। टोमेटो सॉस एक मीठी और तीखी चटनी होती है जिसे आम तौर पर टमाटर, चीनी, सिरके एवं अन्य सीजनिंग मसालों के मिश्रण से तैयार किया जाता है। इसका इस्तेमाल ब्रेकफास्ट, फ़ास्ट फ़ूड एवं स्नैक्स आइटम के साथ बहुतायत मात्रा में किया जाता है। वर्तमान में युवाओं एवं लोगों के लोकप्रिय खाने जैसे चाऊमीन, आमलेट, बर्गर, पेटीज, समोसे, पकौड़ी इत्यादि खाने के साथ Tomato Sauce का सर्वाधिक इस्तेमाल होता है। यही कारण है की सिर्फ घर ही नहीं, बल्कि होटल, ढाबे एवं अन्य छोटे बड़े फ़ास्ट फ़ूड सेण्टर भी इसके बड़े उपभोक्ता हैं। टोमेटो केचप बनाने के लिए कई विशिष्ट मसालों जैसे धनिया, लौंग, जीरा, लहसुन, सरसों, अजवाइन, दालचीनी, अदरक इत्यादि अलग अलग स्वाद वाले मसालों का इस्तेमाल किया जाता है। अनेकों व्यंजनों खास तौर पर गर्म एवं फ्राइड, चिकने व्यंजनों जैसे फ्रेंच फ्राइज़, हैम्बर्गर, हॉट डॉग, चिकन टेंडर्स, टेटर टॉट्स, हॉट सैंडविच, मीट पीसेज, उबले हुए अंडे, ग्रिल्ड या फ्राइड मांस इत्यादि तैयार करने में इसका इस्तेमाल मसाले के तौर पर भी किया जाता रहा है। और कभी कभी Tomato Sauce  का इस्तेमाल व्यंजनों की ड्रेसिंग, सजावट, फ्लेवरिंग इत्यादि के लिए भी किया जाता है। वर्तमान में टोमेटो केचप अनेकों पैकिंग में उपलब्ध है इनमें इसके पाउच, डीप और स्क्वीज वाली बोतल एवं साधारण बोतल शामिल हैं। यद्यपि पहले कुछ फ़ास्ट फ़ूड आउटलेट हैंडऑपरेटेड पंपों से पेपर कप में केचप निकालते थे इस पद्यति से ने दुबारा से 21 वीं शताब्दी के पहले दशक में फिर से वापसी की है। इसलिए ऐसे उद्यमी जिन्हें किसानों की फसल को बर्बाद देखते हुए दुःख होता है वे उद्यमी Tomato Sauce Manufacturing Business शुरू कर सकते हैं। क्योंकि टमाटर की फसल के सीजन के समय हम क्विंटलों टमाटर को बर्बाद होते हुए देखते हैं। ऐसे में यदि उन एरिया में इस तरह की इकाइयाँ स्थापित की जाएँ तो किसानों, उद्यमी एवं देश सबका भला हो सकता है।

Tomato sauce manufacturing business

टोमेटो सॉस बनाने में उपयोग होने वाली सामग्री (Ingredients for Tomato Sauce):

Tomato Sauce बनाने में उपयोग होने वाली प्रमुख सामग्री की बात करें, तो इसमें टमाटर, मिठास, सिरका, नमक, मसाले, स्वाद, प्याज, लहसुन इत्यादि शामिल हैं। स्वीटनर के तौर पर दानेदार सुगर या फिर चुकंदर का इस्तेमाल किया जाता है इसके अलावा स्वीटनर के तौर पर इस्तेमाल में लाये जाने वाले अन्य पदार्थों में मकई या ग्लूकोज सिरप के रूप में डेक्सट्रोज या तरल चीनी भी शामिल हैं। हालाँकि टोमेटो केचप बनाने वाली अलग अलग ब्रांडों के अपने अलग अलग फार्मूला भी हो सकते हैं क्योंकि इनमें इस्तेमाल होने वाले मसालों के मुताबिक इनका स्वाद भी अलग हो सकता है। मोटी सॉस को टोमेटो जूस के सापेक्ष अधिक मसालों एवं चीनी की आवश्यकता होती है। कभी कभी टमाटर एवं एसिड की मात्रा के अनुसार फार्मूला को समायोजित किया जा सकता है। इसलिए इन सब बातों से स्पष्ट है की Tomato Sauce बनाने में प्रमुख सामग्री के तौर पर टमाटर, मसालों एवं स्वीटनर एजेंट का ही इस्तेमाल किया जाता है।

स्वास्थ्य लाभ (Health Benefits of Tomato Sauce):

Tomato Sauce के कुछ प्रमुख स्वास्थ्य लाभ इस प्रकार से हैं।

  • एक आंकड़े के मुताबिक सप्ताह में टोमेटो केचप को दो या दो से अधिक बार खाने पर प्रोस्टेट कैंसर होने की संभावना 20% तक कम हो जाती है।
  • टमाटर में लाइकोपीन पाया जाता है जिसके कारण इसका रंग लाल होता है यह पुरुष प्रजनन क्षमता को बढाने में मददगार होता है।
  • वैज्ञानिकों द्वारा किए गए परीक्षणों में यह बात सामने आई है की टोमेटो केचप कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन, उर्फ खराब कोलेस्ट्रॉल ’को कम करने में भी मददगार होता है ।
  • विटामिन सी की मात्रा प्रचुर एवं वसा की मात्रा कम होने के कारण यह आँखों की दृष्टी के लिए भी अच्छ रहता है। और Tomato Sauce में विटामिन ए होने कारण यह प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए भी महत्वपूर्ण होता है ।

बाजार का विश्लेषण

Tomato Sauce बाजार की यदि हम बात करें तो यह प्रमुख रूप से फ़ास्ट फ़ूड की बढती मांग एवं देश भर में बढ़ रहे फ़ास्ट फ़ूड आउटलेट की संख्या से प्रेरित होती है। यानिकी जैसेजैसे देश भर में लोगों द्वारा फ़ास्ट फ़ूड पसंद किया जा रहा है वैसे वैसे देश में इनकी आउटलेट की संख्या भी बढती जा रही है और साथ टोमेटो केचप का भी उपभोग एवं मांग दोनों बढती जा रही हैं । एक आंकड़े के मुताबिक भारत में टोमेटो केचप का बाजार कुछ ही समय में रूपये 2000 करोड़ से भी अधिक का हो सकता है । और इसी अवसर को ध्यान में रखते हुए बड़े एवं संगठित खिलाड़ी जैसे नेस्ले, हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड पहले से ही मौजूद हैं नेस्ले अपनी प्रसिद्ध ब्रांड मैगी के साथ इस बाजार में एक तिहाई से अधिक की हिस्सेदारी रखता है वहीँ एचयूएल अपने ब्रांड किस्सान के तहत Tomato Sauce का उत्पादन एवं बिक्री करता है। इन कंपनियों के अलावा जी. डी. फूड्स जो टॉप्स ब्रांड के तहत टोमेटो केचप का उत्पादन एवं बिक्री करता है वह भी बाजार के एक बड़े हिस्से पर हिस्सेदारी रखता है। देश में ये तीनों प्रमुख ब्रांड केचप और सॉस के कुल बाजार के तीन-चौथाई भाग में हिस्सेदारी रखते हैं । लेकिन इन सबके बावजूद भी इस व्यवसाय में नए एवं लोकल ब्रांड के लिए भी भरपूर अवसर विद्यमान है जो स्थानीय मांग को ध्यान में रखकर अपने बिजनेस की योजना को क्रियान्वित कर सकते हैं।

टोमेटो सॉस बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to Start Tomato Sauce Manufacturing Business)

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की Tomato Sauce Manufacturing में इस्तेमाल में लाये जाने वाला प्रमुख कच्चा माल स्वयं टमाटर ही है। इसलिए एक ऐसी लोकेशन जहाँ टमाटर का उत्पादन अच्छा होता हो उद्यमी इस तरह का यह बिजनेस आसानी से शुरू कर सकता है। लेकिन इस व्यवसाय में कई चुनौतियाँ भी हैं जिनका उद्यमी को हल ढूँढने की आवश्यकता होती ही होती है। इनमें जो सबसे बड़ी चुनौती है वह यह की उद्यमी वर्ष के बारह महीने अपनी फैक्ट्री में निर्माण कार्य जारी रखने के लिए कच्चे माल का प्रबंध कैसे कर पायेगा। क्योंकि टमाटर एक मौसमी एवं जल्दी ख़राब होने वाली फसल है ऐसे में उद्यमी इस चुनौती से निबटने के लिए क्या योजना बनाएगा। तो आइये जानते हैं की कैसे कोई व्यक्ति खुद का टोमेटो केचप बनाने का बिजनेस शुरू कर सकता है।

1. बिजनेस की योजना बनायें ( Prepare a Plan for Tomato Sauce Manufacturing)

बिजनेस की योजना से हमारा आशय बिजनेस प्लान से है जिसमें उद्यमी को अपने व्यवसाय से सम्बंधित सभी जानकारी का लिखित तौर पर विवरण देना होता है। एक बिजनेस प्लान में बिजनेस शुरू करने में आने वाली अनुमानित लागत से लेकर, बिजनेस शुरू करने के बाद होने वाली अनुमानित कमाई तक एवं एक दो साल के लिए बिजनेस के लक्ष्यों को निर्धारित करने की भी आवश्यकता होती है। अनुमानित लागत एवं कमाई से जुड़ा हुआ दस्तावेज प्रोजेक्ट रिपोर्ट कहलाता है जो आम तौर पर बैंक या अन्य वित्तीय संस्थानों से ऋण इत्यादि प्राप्त करने में भी मददगार होता है। इसलिए यदि उद्यमी चाहता है की वह अच्छे ढंग से अपने Tomato Sauce बनाने के व्यवसाय को शुरू करना होगा, तो उसे एक प्रभावी बिजनेस प्लान बनाने की आवश्यकता होगी ही होगी।    

2. जगह का प्रबंध करें

Tomato Sauce Manufacturing बिजनेस शुरू करने के लिए 700-800Square Feet जगह की आवश्यकता हो सकती है और इस जगह को उद्यमी द्वारा अपना प्लांट लेआउट के अनुसार विभिन्न डिवीज़न जैसे पैकिंग, मशीन संचालन की जगह, भण्डारण, ऑफिस, बिजली रूम, जनरेटर रूम इत्यादि में विभाजित करना पड़ सकता है। उद्यमी कहीं भी गैरकृषि भूमि जहाँ सड़क, बिजली, पानी इत्यादि की उचित व्यवस्था हो में जगह या बिल्डिंग का प्रबंध कर सकता है। और यदि उद्यमी द्वारा जगह या बिल्डिंग किराये पर ली जा रही हो तो उसका रेंट एग्रीमेंट या फिर लीज एग्रीमेंट बनाना अति आवश्यक हो जाता है।    

3. आवश्यक लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन

इस तरह का व्यवसाय शुरू करने के लिए उद्यमी को निम्नलिखित लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता हो सकती है।

  • सर्वप्रथम उद्यमी को अपने Tomato Sauce Manufacturing Business को एक वैधानिक स्वरूप प्रदान करने की आवश्यकता होती है इसके लिए उद्यमी अपने व्यवसाय को प्रोप्राइटरशिप के तहत रजिस्टर करा सकता है।
  • बिल इत्यादि जनरेट करने के लिए टैक्स रजिस्ट्रेशन यानिकी जीएसटी रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता हो सकती है।
  • फैक्ट्री या ट्रेड लाइसेंस के तौर पर स्थानीय प्राधिकरण जैसे नगर निगम इत्यादि से लाइसेंस लेने की आवश्यकता हो सकती है।
  • वित्तीय ट्रांजेक्शन के लिए बैंक में अपने व्यवसाय के नाम से चालु खाता खोलने की भी आवश्यकता हो सकती है।
  • चूँकि यह खाद्य पदार्थ विनिर्माण से जुड़ा हुआ बिजनेस है इसलिए इसके लिए फ़ूड लाइसेंस की अनिवार्यता है।
  • यदि Tomato Sauce Manufacturing Business करने वाला उद्यमी अपने व्यवसाय को एमएसएमई के तौर पर पहचान दिलाना एवं सरकारी योजनाओं का फायदा लेना चाहता है तो उसे उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन एवं एमएसएमई डाटा बैंक रजिस्ट्रेशन की भी आवश्यकता हो सकती है ।     

4. मशीनरी उपकरण एवं कच्चा माल

Tomato Sauce बनाने वाली मशीनों का इस्तेमाल प्राथमिक तौर पर कच्चे माल से खाने योग्य टोमेटो केचप का उत्पादन करने के लिए किया जाता है। इन मशीनों की सहायता से इस प्रक्रिया में इस्तेमाल में लायी जाने वाली सभी प्रक्रियाएं जैसे धुलाई, पुलिंग, मिश्रण, समरूप बनाना, उबालना, भरना और सील करने का काम काफी कम समय में एवं आसानी से किया जा सकता है। इस प्रक्रिया में इस्तेमाल होने वाली प्रमुख मशीनरी एवं उपकरणों की लिस्ट निम्नवत है।

  • फ्रूट मिल
  • फ्रूट पल्पर
  • कुकिंग केटल
  • पल्प कलेक्शन टैंक
  • वैक्यूम फिलिंग मशीन
  • क्राउन कोर्किंग
  • बायलर
  • पाउच पैकेजिंग मशीन
  • एमएस पाइपलाइन
  • इंस्टालेशन एवं कमीशनिंग  

इसके अलावा Tomato Sauce Manufacturing Business में इस्तेमाल में लायी जाने वाले कुछ प्रमुख कच्चे माल की लिस्ट इस प्रकार से है।

  • टमाटर
  • अनियन पाउडर
  • गार्लिक पाउडर
  • लाल मिर्च पाउडर
  • हरी मिर्ची
  • अदरक
  • पम्पकिन
  • एसिटिक एसिड
  • सिट्रिक एसिड
  • सोडियम बेन्जोएट
  • पोटैशियम सोल्वेट

जहाँ तक कर्मचारियों की बात है इस बिजनेस को शुरू करने के लिए उद्यमी को लगभग 6-7 कर्मचारियों को नियुक्त करने की आवश्यकता हो सकती है । इनमें 1-2 कुशल एवं बाकी अकुशल श्रमिक शामिल हैं।   

5. निर्माण कार्य शुरू करें (Start Tomato Sauce Manufacturing):

Tomato Sauce Manufacturing की बात करें तो इस प्रक्रिया में सबसे पहले ख़रीदे गए टमाटर को धो लिया जाता है उसके बाद अच्छे गुणवत्तायुक्त टमाटर की छंटाई प्रक्रिया शुरू की जाती है। उसके बाद टमाटर को काटा जाता है और इन्हें ट्विन पल्पर में डाला जाता है जहाँ गुदे से बीज, तना, छिलका इत्यादि अलग हो जाता है। उसके बाद इस पल्प या टमाटर की लुगदी को कुकिंग टैंक या केटल में गर्म करने के लिए डाला जाता है। अगर इस प्रक्रिया में उद्यमी द्वारा ताजे टमाटरों के गुदे का इस्तेमाल किया गया हो तो फोमिंग हो सकती है लेकिन इसे एंटी-फोमिंग यौगिकों या संपीड़ित हवा के साथ ठीक किया जा सकता है। उसके बाद टमाटर की इस लुगदी में मसाले, मिठास, सिरका, नमक,  और स्वाद की उपयुक्त मात्रा मिलाई जाती है अधिकतर मसालों को कुकिंग प्रक्रिया शुरू होते ही इसमें मिला दिया जाता है। जब Tomato Sauce Manufacturing Process में कुकिंग प्रक्रिया पूर्ण हो जाती है तो फिर इस केचप मिश्रण को एक फिनिशिंग मशीन से होकर गुज़ारा जाता है। यह मशीन इस मिश्रण से फाइबर एवं अन्य कणों को हटाती है और मिश्रण को और अधिक चिकना एवं मुलायम बनाने में सहायक होती है। केचप किसी भी बैक्टीरिया के मलिनकिरण और विकास से मुक्त हो इसके लिए इसे डी-एयरेट किया जाता है यानिकी इसमें से अतिरिक्त हवा को दूर किया जाता है। केचप में संदूषण को रोकने के लिए केचप को रिसीविंग टैंक से फिलिंग मशीन की तरफ 190 ° F से अधिक तापमान के साथ गुज़ारा जाता है। कंटेनर को केचप से भर देने के बाद ताजगी बनाये रखने के लिए तुरंत सील करने की आवश्यकता होती है। उसके बाद इस मिश्रण को ठंडा होने के छोड़ दिया जाता है और ठंडे होने के बाद ही Tomato Sauce की लेबलिंग एवं पैकेजिंग की जाती है।  

अन्य लेख भी पढ़ें