PVC Door Business Plan in Hindi : पानी से ख़राब न होने का गुण प्लास्टिक के दरवाजे का एक ऐसा गुण है, जो इन्हें लोगों के बीच प्रसिद्धी दिलाता है। समय व्यतीत होने के साथ साथ मनुष्य की आवश्यकताओं में भी बदलाव होता रहता है। इसके अलावा वर्तमान में मनुष्य का ध्यान पर्यावरण के संरक्षण करने में भी गया है।

भारत एक कृषि प्रधान देश है, तो इसकी सर्वाधिक आबादी ग्रामीण भारत में निवास करती है। और ग्रामीण भारत में किसी भी प्रकार के फर्नीचर जैसे दरवाजे, खिड़कियाँ, रोशनदान इत्यादि बनाने के लिए लकड़ी का ही इस्तेमाल किया जाता आ रहा है।

लेकिन शहरों की बात करें तो वर्तमान में तरह तरह की धातु, लकड़ी और प्लास्टिक से निर्मित फर्नीचर का इस्तेमाल शहरों में काफी बढ़ गया है। और धीरे धीरे इसका प्रचलन ग्रामीण भारत की ओर भी विस्तारित हो रहा है।

आज हम एक ऐसे ही अनोखे बिजनेस की बात कर रहे हैं, जो अभी तक आम नहीं है। लेकिन धीरे धीरे इसकी ग्राहकों की लगातार बढती संख्या को देखते हुए कहा जा सकता है की आने वाले दिनों में यह बिजनेस भी कमाई का एक बेहतरीन स्रोत हो सकता है।

जी हाँ आज हम बात करने वाले हैं, प्लास्टिक के दरवाजे बेचने के बिजनेस के बारे में। जिन प्लास्टिक के दरवाजों की हम बात कर रहे हैं, ये देखने में तो काफी खुबसूरत होते ही हैं। और ये पानी में भीगकर खराब भी नहीं होते, इनका यही गुण इन्हें बाथरूम के दरवाजों के तौर पर इस्तेमाल करने के लिए एक बेहतरीन विकल्प बनाता है।

PVC door

प्लास्टिक के दरवाजों की बिकने की संभावना  

जैसा की हम बता चुके हैं, की प्लास्टिक के दरवाजों को विभिन्न आकार और डिजाईन का बनाया जा सकता है। कहने का आशय यह है की यह दरवाजे बाज़ार में विभिन्न आकार, डिजाईन और रंग में उपलब्ध हैं । कोई भी व्यक्ति अपने घर के अन्य फर्नीचर से मैच करते हुए प्लास्टिक के दरवाजे अपने बाथरूम इत्यादि जहाँ लकड़ी या अन्य दरवाजों का पानी से खराब होने का खतरा रहता है, पर लगवा सकता है।

वर्तमान में लोगों की जीवनशैली में काफी बदलाव हो गए हैं, वे अपने घर के इंटीरियर में काफी ध्यान देने लगे हैं। लेकिन जब बाथरूम की आती है, तो लकड़ी के दरवाजों का भीगकर खराब होने का खतरा बना रहता है। यही कारण है की लोग ऐसे विकल्प की तलाश में रहते हैं, जो दरवाजों की सुन्दरता को कम किये बिना पानी से खराब होने के उनके भय को दूर कर सके।

Plastic ke Darwaje Ka business : ऐसे में प्लास्टिक के दरवाजे काफी उपयोगी होते हैं, हालांकि यह सच है की ये लकड़ी या अन्य धातु से निर्मित दरवाजों की तुलना में कम मजबूत होते हैं। लेकिन इन्हें घर के बाथरूम, टॉयलेट इत्यादि जगहें जहाँ पर पानी का इस्तेमाल अधिक होता हो, में आसानी से इस्तेमाल में लाया जा सकता है। बशर्ते इनको उच्च दबाव से हमेशा सुरक्षित रखने की आवश्यकता होती है।

प्लास्टिक के दरवाजे पर लगने वाली चौखट भी प्लास्टिक की ही होती है, इसलिए पानी से तो खराब होने का इन्हें खतरा नहीं होता। लेकिन दरवाजे पर जोर देने या दबाव इत्यादि देने से दरवाजा टूट भी सकता है। इसलिए बाथरूम इत्यादि जैसी जगहों पर इनका इस्तेमाल बढ़ता जा रहा है।

प्लास्टिक के दरवाजे बेचने का बिजनेस कैसे शुरू करें   

PVC Door Business in Hindi : बाज़ार में प्लास्टिक के दरवाजे बने बनाये आते हैं, लेकिन जहाँ तक इनका साइज़, डिजाईन, रंग इत्यादि का सवाल है यह ग्राहक की माँग के आधार पर अलग अलग हो सकता है। इसलिए जो भी कंपनी इस तरह के दरवाजों का विनिर्माण करती है, आप चाहें तो सीधे उनसे ही माल खरीद सकते हैं।

कहने का आशय यह है की प्लास्टिक के दरवाजे बने बनाये आते हैं, लेकिन इनके साइज़ को आप अपने हिसाब से कस्टमाइज कर सकते हैं। इसके लिए आपको कुछ छोटे छोटे कटिंग उपकरणों और ग्लू की आवश्यकता होती है। जिनकी जानकारी जहाँ से भी आप प्लास्टिक के दरवाजे बेचने के लिए खरीदेंगे, वह आपको दे देंगे।

एरिया में माँग का जायजा लें

सबसे पहले आप जहाँ पर प्लास्टिक के दरवाजे बेचने का बिजनेस शुरू करने की योजना बना रहे हैं, उस एरिया में माँग का जायजा लें। माँग का जायजा लेने के लिए आप वहाँ पर हो रही रिहायशी कंस्ट्रक्शन गतिविधियों का आकलन कर सकते हैं। यदि उस एरिया में रिहायशी या औद्योगिक कंस्ट्रक्शन की गतिविधियाँ अधिक हो रही हैं, तो इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं, की उस एरिया में प्लास्टिक के दरवाजे बिकने की संभावना अधिक है।

हालांकि बहुत सारे लोग जिन्होंने अपने बाथरूम इत्यादि में लकड़ी के दरवाजे लगाएं हों, और वे पानी के कारण खराब हो गए हों, तो वे भी आपके टारगेट कस्टमर को सकते हैं। कुछ लोग बाथरूम में एल्युमीनियम एवं लोहे के दरवाजे भी लगाते हैं, जो दिखने में ज्यादा अच्छे नहीं लगते हैं। ऐसे में आप उन्हें भी प्लास्टिक के दरवाजे लगाने की सलाह दे सकते हैं। ध्यान रहे जब एरिया में प्लास्टिक के दरवाजों की माँग होगी तभी आप इस बिजनेस से कमाई कर पाने में सफल हो पाएँगे।       

सप्लायर या विनिर्माणकर्ता की जानकारी लें

माँग का जायजा तो आपने ले लिया, और यदि आपको लगता है की आप उस एरिया में प्लास्टिक के दरवाजे बेचकर कमाई कर पाने में सक्षम होंगे। तो आगे आपका अगला कदम प्लास्टिक के दरवाजों के सप्लायर या विनिर्माणकर्ता को ढूँढने का होगा। जहाँ से आप अपनी दुकान के लिए प्लास्टिक के दरवाजे खरीद पाएँगे ।

कोशिश करें की आप किसी ऐसे सप्लायर या विनिर्माणकर्ता का चुनाव करें जो आपकी दुकान तक प्लास्टिक के दरवाजों की सुरक्षित डिलीवरी पहुँचाने में सक्षम हो। वह इसलिए क्योंकि प्लास्टिक के दरवाजे अन्य दरवाजों की तुलना में कम मजबूत होते हैं, और ट्रांसपोर्टेशन के दौरान इनके टूटने का खतरा बना रहता है।     

आवश्यक जगह/दुकान का प्रबंध करें

यदि आपको पता चल गया हो, की आप अपने दुकान के लिए माल कहाँ से खरीदने वाले हैं। तो उसके बाद आपका अगला कदम उस एरिया की स्थानीय मार्किट जहाँ अक्सर लोग खरीदारी करने आते हों, और वहाँ पर भीड़ भाड़ रहती हो, में एक दुकान किराये पर लेने का होना चाहिए।

PVC Door Business करने के लिए दुकान का एरिया थोड़ा बड़ा चाहिए होता है, क्योंकि एक तरफ जहाँ आपको ग्राहकों को दिखाने के लिए अलग अलग डिजाईन के दरवाजे डिस्प्ले करने होते हैं । वहीँ आपको उनके आकार को ग्राहक की जगह के अनुरूप कस्टमाइज करने के लिए भी जगह की आवश्कयता होती है ।

दुकान किराये पर लेते वक्त रेंट एग्रीमेंट अवश्य बनवा लें, क्योंकि इसे आप अपने बिजनेस के पता प्रमाण के तौर पर इस्तेमाल में ला सकते हैं । और कई तरह के लाइसेंस और पंजीकरण के लिए आवेदन करते समय यह आपके काफी काम आ सकता है।

जरुरी लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन प्राप्त करें

आप चाहें तो अपने प्लास्टिक के दरवाजे के बिजनेस को एकल स्वामित्व यानिकी प्रोप्राइटरशिप के तहत रजिस्टर करवा सकते हैं। पैसे के लेन देन के लिए आपको किसी बैंक में एक चालू खाता खोलने की भी आवश्यकता होती है।

टैक्स रजिस्ट्रेशन जैसे जीएसटी रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता सालाना बिजनेस टर्नओवर एक सीमा तक पहुँच जाने के बाद कुछ राज्यों में 10 लाख तो कुछ में 20 लाख तक पहुँच जाने के बाद होती है। आप चाहें तो स्वैच्छिक जीएसटी रजिस्ट्रेशन इस सीमा तक पहुँचने से पहले भी करा सकते हैं । स्थानीय प्राधिकरण नगर निगम/नगर पालिका से लाइसेंस की भी आवश्यकता हो सकती है।      

स्थानीय ठेकेदार/बिल्डर से संपर्क करें

अब सब कुछ वैधानिक रूप से पूर्ण करने के बाद अब उद्यमी को अपने प्लास्टिक के दरवाजे को बेचने की भरपूर कोशिश करनी चाहिए। इसके लिए उद्यमी चाहे तो उस एरिया में बन रहे घर या बिल्डिंग का दौरा करके, ठेकेदार या घर या बिल्डिंग के स्वामी को बाथरूम में प्लास्टिक के दरवाजे लगाने के फायदों के बारे में बता सकता है।

PVC Door Business Plan in Hindi : और उनके पास अपना कार्ड या फ़ोन नंबर छोड़ सकता है, ताकि यदि उन्हें कभी भी लगता है की उन्हें अपने बाथरूम या अन्य जगहों पर प्लास्टिक के दरवाजे लगाने हों, तो वे उससे संपर्क करके यह काम करवा सकें। उस एरिया में स्थित ठेकेदार, बिल्डर, राजमिस्त्री इत्यादि से संपर्क करके उन्हें उनके द्वारा रेफर किये गए प्रत्येक बिक्री पर कमीशन भी ऑफर कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें  

error: Content is protected !!