प्राइवेट सिक्यूरिटी एजेंसी कैसे शुरू करें। 6 Easy Steps to Start Private Security Agency.

वैसे देखा जाय तो देश व राज्य की सुरक्षा सरकारों के हाथ में होती है तो क्या फिर Private Security Agency की आवश्यकता है? जी हाँ हम अक्सर देखते हैं की सरकारों के पास देश व राज्य की सुरक्षा के लिए एक नहीं बल्कि कई सुरक्षा एजेंसीयाँ एवं कम्पनियाँ हैं। लेकिन एक आम आदमी इन्हें आम तौर पर फौजी और पुलिस वालों के रूप में जानता है।

जहाँ देश के बाहर से आने वाले खतरे से निबटने के लिए देश की सीमाओं पर फौजी खड़े रहते हैं वहीँ देश के अन्दर कानून का राज स्थापित करने के लिए और लोगों को सुरक्षा का एहसास कराने के लिए पुलिस बल तैनात रहते हैं। लेकिन अब सवाल यह उठता है की इन सबके बावजूद भी क्या देश में Private Security Agency की आवश्यकता है? जी हाँ देश में निजी क्षेत्र के सुरक्षा एजेंसीयों की आवश्यकता पहले भी थी, वर्तमान में भी है और आगे भी रहेगी।

क्योंकि बढ़ते शहरीकरण, औद्यागिकीकरण के चलते भारत में भी अनेक स्थानों जैसे स्कूल, कॉलेज, बैंक, ऑफिस, मॉल, एटीएम एवं अन्य सार्वजनिक स्थलों में सुरक्षा की नितांत आवश्यकता है। सिर्फ चोरी, डकैती, लूटमार इत्यादि को रोकने के लिए ही नहीं, अपितु लोगों को व्यवस्थित ढंग से किसी कार्य को करने की ओर अग्रसित करने के लिए भी सिक्यूरिटी गार्ड इत्यादि की आवश्यकता होती है।

वर्तमान में कोई भी फैक्ट्री हो, कार्यालय हो, व्यवसायिक बिल्डिंग हो, मंत्रालय हो, होटल हो, कुछ भी हो हर जगह उनके प्रवेश द्वार पर प्राइवेट सिक्यूरिटी गार्ड देखने को मिल जाएंगे। क्योंकि वर्तमान में भारत में शायद ही कोई ऐसी जगह हो जहाँ सिक्यूरिटी की आवश्यकता नहीं है।

इसलिए किसी भी इच्छुक उद्यमी के लिए Private Security Agency शुरू करना काफी लाभकारी साबित हो सकता है। इससे पहले की हम इस विषय पर विस्तृत रूप से बात करें आइये जानते हैं की इस तरह की एजेंसी होती क्या हैं?

Private Security Agency kaise shuru kare
Private Security Agency kaise shuru kare

प्राइवेट सुरक्षा एजेंसी क्या है (What is a Private Security Agency): 

एक ऐसा व्यवसायिक प्रतिष्ठान जो व्यक्तियों या प्रतिष्ठानों को सशस्त्र या बिना शस्त्रों के सुरक्षा सेवाएं और विशेषज्ञता प्रदान करती हो Private Security Agency कहलाती है। इन सेवाओं को यह व्यवसायिक प्रतिष्ठान अपने ग्राहकों की शारीरिक और चल, अचल सम्पति की सुरक्षा के लिए प्रदान करते हैं।

या कहीं पर भीड़ इत्यादि को नियंत्रित करने के लिए भी इस तरह की एजेंसी द्वारा अपने ग्राहकों को सर्विस दी जा सकती है। हालांकि एक निजी सुरक्षा एजेंसी अपने सुरक्षा गार्ड को किन किन कार्यों के लिए नियुक्त कर सकती है इसके बारे में हम आगे इसी लेख में बात करेंगे।

प्राइवेट सुरक्षा एजेंसी के प्रकार   

सुरक्षा एजेंसी के द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं के आधार पर Private Security Agency को निम्नलिखित भागों में विभाजित किया जा सकता है।

  1. व्यक्तिगत सुरक्षा (Personal Security)व्यक्तिगत या पर्सनल सिक्यूरिटी से आशय किसी व्यक्ति विशेष या फिर व्यक्तियों के किसी समूह विशेष को सुरक्षा प्रदान करने से है। इसमें प्राइवेट सिक्यूरिटी एजेंसी अपने ग्राहकों को बॉडीगार्ड यानिकी अंगरक्षक प्रदान करती है जो किसी एक व्यक्ति विशेष की या व्यक्तियों के समूह को सुरक्षा देने के लिए जिम्मेदार होते हैं।
  2. गृह सुरक्षा (Home Security)गृह सुरक्षा से आशय अपराधियों से व्यक्ति की सम्पति की सुरक्षा करने से है वैसे वर्तमान में देखा जाय तो इस प्रकार की Private Security Agency अपने ग्राहकों को सिक्यूरिटी गार्ड तो प्रदान करती ही है। साथ में कैमरे, मोशन सेंसर, हीट सेंसर और अलार्म सिस्टम जैसे गैजेट्स इस्तेमाल करने की भी सलाह अपने ग्राहकों को देती है।
  3. इवेंट सिक्यूरिटी – इस तरह की सुरक्षा प्राइवेट एजेंसी अपने ग्राहकों को किसी आयोजन या इवेंट के दौरान प्रदान करती हैं जहाँ पर हजारों, लाखों संख्या में भीड़ जमा होने की आशंका हो। यह कोई राजनैतिक कार्यक्रम, व्यक्तिगत कार्यक्रम कुछ भी हो सकता है।
  4. कार्यालयों और सार्वजनिक स्थानों की सिक्यूरिटी –  वर्तमान मेंहर कार्यालय के प्रवेश द्वार पर हमें सिक्यूरिटी गार्ड देखने को मिल जाते हैं। इस तरह की Private Security Agency होटल, रेस्टोरेंट, कार्यालयों, मॉल इत्यादि स्थानों पर अपनी सिक्यूरिटी प्रदान करते हैं। 

प्राइवेट सुरक्षा एजेंसी की प्रमुख गतिविधियाँ (Activity of Private Security Agency):  

एक व्यक्तिगत व्यक्ति जो किसी सिक्यूरिटी एजेंसी के साथ काम कर रहा होता है उसे सिक्यूरिटी एजेंट कह सकते हैं और वह निम्नलिखित गतिविधियों में शामिल रहता है।

  1. नियम और कानून लागू करना – एक सिक्यूरिटी एजेंट का प्रमुख कार्य किसी क्षेत्र विशेष, संस्थान विशेष में नियम और कानूनों को लागू करवाना है। कहने का आशय यह है की उन्हें यह सुनिश्चित करना होता है की किसी शहर, क्षेत्र विशेष या संस्थान विशेष में उन नियमों का पालन हो जिनके लिए उन्हें नियुक्त किया गया है।
  2. खतरों और आपात स्थितियों में जवाब देना – किसी आपातकालीन स्थिति से निबटने के लिए सरकारी सुरक्षा एजेंसी किसी Private Security Agency को भी नियुक्त कर सकती है। और प्राइवेट सिक्यूरिटी एजेंसी अपने एजेंटों को उस खतरे और आपदा से लोगों को सुरक्षित करने के लिए भेज सकती है।  
  3. सीसीटीवी कैमरों की निगरानी करना – एजेंसी अपने एजेंट को अपने ग्राहकों की आवश्यकता के अनुसार सीसीटीवी कैमरों पर निगरानी रखने के लिए भी नियुक्त कर सकती है। ये कैमरे किसी घर, व्यवसायिक बिल्डिंग, सार्वजनिक स्थान इत्यादि में हो सकते हैं।  
  4. निर्दिष्ट क्षेत्र में सुरक्षा जाँच करना – कई सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र ऐसे होते हैं जहाँ पर किसी भी व्यक्ति के प्रवेश से पहले सुरक्षा की दृष्टी से जाँच करना बेहद अहम् हो जाता है।एक सिक्यूरिटी एजेंसी अपने एजेंट को इन स्थानों पर भी नियुक्त कर सकती है।      

प्राइवेट सिक्यूरिटी एजेंसी कैसे शुरू करें (How to Start Private Security Agency in India):

Private Security agency वैसे तो कोई भी व्यक्ति जो प्राइवेट सिक्यूरिटी एजेंसी रेगुलेशन एक्ट 2005 में दिए गए पात्रता मानदंडों में खरा उतरता है, शुरू कर सकता है। लेकिन यदि उद्यमी स्वयं किसी सरकारी सुरक्षा एजेंसी से बड़े पद से रिटायर्ड हो तो उसके लिए इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करना आसान हो सकता है।

वैसे इस तरह का व्यवसाय शुरू करने सम्बन्धी लोगों की जो सबसे अधिक शंकाएं या प्रश्न होते हैं वे इसके लाइसेंस से समबन्धित होते हैं जिनका जवाब हम इस लेख के माध्यम से देने का प्रयास करेंगे। तो आइये जानते हैं की कैसे कोई व्यक्ति खुद की प्राइवेट सिक्यूरिटी एजेंसी खोल सकता है।

1. स्थानीय रिसर्च करें

स्थानीय स्तर पर यानिकी जहाँ पर उद्यमी Private Security Agency खोलने की योजना बना रहा हो उस क्षेत्र में उद्यमी को रिसर्च करने की आवश्यकता होती है। इस रिसर्च में सबसे पहले तो इस प्रश्न का हल ढूंढना होता है की क्या उस एरिया में सिक्यूरिटी गार्ड की मांग है या नहीं है?

और इस प्रश्न का जवाब जानने के लिए उद्यमी को उस एरिया में स्थित कार्यालयों, फैक्ट्रीयों, होटल, रेस्टोरेंट, मॉल इत्यादि की संख्याओं का आकलन करना होगा यदि उस एरिया में इनकी अधिकता है तो इसमें कोई दो राय नहीं की उस एरिया में सिक्यूरिटी गार्ड की आवश्यकता होगी ही होगी। उसके बाद उद्यमी को उस एरिया में प्रतिस्पर्धा पर रिसर्च करने की आवश्यकता होती है क्या पहले से उस एरिया में कोई Private Security Agency अपनी सर्विसेज दे रही है?

उससे भी जरुरी बात की क्या उसकी सर्विसेज से उसके ग्राहक संतुष्ट हैं? इत्यादि प्रश्नों का जवाब उद्यमी को उसके व्यवसाय को सफल बनाने की योजना बनाने में काम आने वाले हैं। इसके अलावा तीसरा प्रश्न यह की क्या उसे उस एरिया में सिक्यूरिटी गार्ड बनने के इच्छुक नौजवान आसानी से मिल जाएंगे? क्योंकि किसी भी सिक्यूरिटी एजेंसी की सफलता में उसके सिक्यूरिटी एजेंट का अहम् योगदान होता है।    

2. Private Security Agency रेगुलेशन एक्ट को समझें

अब उद्यमी को यह समझने का प्रयत्न करना चाहिए की क्या वह खुद की Private Security Agency खोलने के लिए पात्र होगा या नहीं इसके लिए उद्यमी को प्राइवेट सिक्यूरिटी एजेंसीज रेगुलेशन एक्ट 2005 को ध्यान से पढना होगा। या फिर किसी अधिवक्ता या वकील की सहायता इस कार्य के लिए लेनी पड़ सकती है।

क्योंकि इस PSARA 2005 को समझकर ही उद्यमी इस बात का निर्णय ले पाने में सक्षम हो पायेगा की वह इस तरह का व्यवसाय शुरू कर सकता है या नहीं। हालांकि इस व्यवसाय को कोई भी इच्छुक व्यक्ति जो इस व्यवसाय में आने वाले खर्चे को वहन कर सकता है शुरू कर सकता है लेकिन इस रेगुलेशन अधिनियम में उन सभी बातों का जिक्र किया गया है।

जिनका पालन किसी प्राइवेट सिक्यूरिटी एजेंसी को करना ही करना है। यह अधिनियम उद्यमी के निर्णय को बदलने वाला भी हो सकता है इसलिए इसकी जानकारी होना किसी भी उद्यमी जो सिक्यूरिटी एजेंसी शुरू करना चाहता हो के लिए जरुरी हो जाता है।    

3. ऑफिस स्थापित करें

हालांकि शुरूआती दौर में खुद की Private Security Agency शुरू करने के लिए किसी प्रकार की मशीनरी इत्यादि की आवश्यकता तो नहीं है। लेकिन उद्यमी को किसी स्थानीय बाजार में खुद का ऑफिस स्थापित करने की आवश्यकता होगी और इसके लिए उद्यमी को कुछ फर्नीचर, कंप्यूटर, प्रिंटर इत्यादि खरीदने की आवश्यकता हो सकती है।

उद्यमी चाहे तो एक दो कर्मचारी ऑफिस के काम के लिए नियुक्त भी कर सकता है क्योंकि यह वही जगह होगी जहाँ से उद्यमी को अपने ग्राहक एवं अपने सिक्यूरिटी एजेंट दोनों से संपर्क करना होगा। ग्राहक से पहले उद्यमी को कुछ सिक्यूरिटी एजेंट की नियुक्ति करने की आवश्यकता हो सकती है।

वैसे उद्यमी चाहे तो ऐसे लोगों का एक डाटाबेस तैयार कर सकता है जो सिक्यूरिटी एजेंट बनने के इच्छुक हों और कभी भी उसकी कंपनी को ज्वाइन करने की बात करते हों।     

4. आवश्यक लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन प्राप्त करें

शुरूआती दौर में उद्यमी अपने व्यवसाय को वन पर्सन कंपनी के तौर पर रजिस्टर कर सकता है और बाद में इसे प्राइवेट लिमिटेड कंपनी भी बना सकता है। खुद की Private Security Agency शुरू करने के लिए उद्यमी को निम्नलिखित लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता हो सकती है।

  • एजेंसी नाम सर्च और रजिस्ट्रेशन।
  • संगठन के किसी रूप के तहत रजिस्ट्रेशन जैसे वन पर्सन कम्पनी, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी इत्यादि।
  • जीएसटी रजिस्ट्रेशन, व्यवसाय के नाम से पैन कार्ड, चालू खाता इत्यादि।
  • स्थानीय प्राधिकरण से लाइसेंस।
  • शस्त्र लाइसेंस वैसे तो एजेंसी उन्हीं लोगों को एजेंट के रूप में नियुक्त करती है जिनके पास लाइसेंस्ड शस्त्र हों, लेकिन यदि कंपनी अपने एजेंट शस्त्र भी प्रदान करती है तो प्रत्येक शस्त्र का लाइसेंस होना आवश्यक है ।
  • प्राइवेट सिक्यूरिटी एजेंसी रेगुलेशन एक्ट लाइसेंस। 

  5. यूनिफार्म इत्यादि निर्धारित करें और नौजवानों को जोड़ें

यदि उद्यमी ने Private Security Agency शुरू करने के लिए सभी प्रक्रियाएं पूर्ण कर ली हों तो अब उसका अगला कदम अपने सिक्यूरिटी एजेंट के लिए यूनिफार्म निर्धारित करने का होना चाहिए। यूनिफार्म निर्धारित करने से आशय यूनिफार्म की डिजाईन, रंग, कैप, जूते इत्यादि के चुनाव से है।

इसके अलावा उद्यमी को नौजवानों को अपने साथ जोड़ने के लिए उस एरिया में स्थानीय अख़बार, केबल टेलीविजन, सोशल मीडिया, पोस्टर, फ्लायर्स इत्यादि के माध्यम से विज्ञापन करना चाहिए और उनकी स्क्रीनिंग करके उन्हें नियुक्त करना चाहिए।  

6. ग्राहक बनायें और कमाएं (Get Customer for Your Private Security Agency)

अब उद्यमी का पूरा ध्यान ग्राहक बनाने की तरफ होना चाहिए इसके लिए उद्यमी उस एरिया में स्थित ऑफिस, फैक्ट्री इत्यादि में जाकर उनसे संपर्क कर सकता है। और उन्हें अपना ब्राऊचर, विजिटिंग कार्ड इत्यादि देकर उन्हें जरुरत पड़ने पर संपर्क करने को बोल सकता है। ध्यान रहे यदि उद्यमी को किसी ऐसी कंपनी का कोई एक ही काम मिल गया जहाँ सैकड़ों या पचासों सिक्यूरिटी गार्ड की आवश्यकता है तो फिर उद्यमी शायद ही कभी पीछे मुड़कर देखे।

वैसे Private Security Agency शुरू कर चुके उद्यमी को एक बात और ध्यान रखना चाहिए की अक्सर ऐसी कम्पनियां जिनके कार्यालय सम्पूर्ण भारत में फैले गुए हैं वे चाहते हैं की उनके सभी लोकेशन पर एक ही कंपनी के सिक्यूरिटी गार्ड उपलब्ध हों। इसलिए शुरूआती दौर में उद्यमी को ऐसी कंपनीयों को टारगेट नहीं करना चाहिए क्योंकि उसके पास उस दौर में संसाधनों की कमी होती है।

अन्य लेख भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *