पॉपकॉर्न बनाने का व्यापार। Popcorn Making Business Plan In Hindi.

आप अपने घर के किसी नजदीकी बाजार में गए हों, या फिर किसी मेले या भीड़ भाड़ वाली जगह में आपको Popcorn Making वाले उद्यमी अवश्य मिल जाते होंगे। जी हाँ आप देखते होंगे की इनके पास पॉपकॉर्न बनाने की एक छोटी सी मशीन होगी जिसके माध्यम से वे इस कार्य को आसानी से कर रहे होते हैं। कुछ उद्यमी कागज़ से निर्मित पैकेट में अपने ग्राहकों को पॉपकॉर्न देते हैं, तो कुछ एक पारदर्शी पन्नी में पैकिंग करके दस रूपये प्रति पैकेट के हिसाब से बेच रहे होते हैं।

कहने का आशय यह है की गली मोहल्लों में, साप्ताहिक बाज़ारों में, मेलों में जो पॉपकॉर्न बेचीं जाती हैं उनका निर्माण उद्यमी एक पोर्टेबल मशीन जिसमें पारदर्शी पन्नी को सीलिंग करने की भी व्यवस्था होती है के माध्यम से की जाती है। और अक्सर देखा गया है की इस तरह का Popcorn Making करने वाले उद्यमी अपने ग्राहकों को गरम गरम पॉपकॉर्न परोसते हैं। लेकिन हम इस लेख में घर घर जाकर, गली मोहल्लों में भटककर पॉपकॉर्न बनाकर बेचने की बात नहीं कर रहे हैं, बल्कि हम ऐसे Popcorn Making Business के बारे में बात करे रहे हैं जिसे उद्यमी एक फैक्ट्री, कंपनी या फर्म के तौर पर चलाकर विभिन्न फ्लेवर की पॉपकॉर्न को बाजार में उतारे।

कहने का आशय यह है की उद्यमी पॉपकॉर्न बनाने के बिजनेस को संगठित तौर पर कैसे शुरू कर सकता है आज हम इसी विषय पर वार्तलाप करने वाले हैं। तो आइये इससे पहले यह जान लेते हैं की पॉपकॉर्न होता क्या है?

Popcorn Making Business in Hindi

पॉपकॉर्न क्या होता है (What is Popcorn)

पॉपकॉर्न की यदि हम बात करें तो यह कॉर्न कर्नेल की एक किस्म है जो गर्म होने पर फ़ैल जाती है और एक पफ का निर्माण करती है। इसे आम तौर पर मकई के दानों से बनाया जाता है पॉपकॉर्न के लिए मकई के दानों को इस्तेमाल करने के लिए पहले इन्हें सुखाया जाता है ताकि गरम होने पर इनकी फैलने की क्षमता अधिक हो। इनमें स्टार्ची एंडोस्पर्म 14 से 20% की नमी के साथ होती है, जो कर्नेल के गरम होने पर भाप में परिवर्तित हो जाती है। भाप का दबाव तब तक बना रहता है जब तक की सूखे मकई के दाने टूटने पर विवश न हो जाएँ, और जब ये टूटते हैं तो ये अपने वास्तविक आकार से 20 से 50 गुना तक फ़ैल सकते हैं।

हालांकि इन्हें फुलाने से पहले इन पर तेल या अन्य नमी का इस्तेमाल किया जा सकता है और फ्लेवर Popcorn Making के बाद भी शामिल किया जा सकता है।

पॉपकॉर्न मेकिंग क्यों करें? (Why to Start Popcorn Making Business):

Popcorn Making Business क्यों शुरू करना चाहिए इसके पीछे अनेक कारण हो सकते हैं लेकिन जो सबसे अहम् कारण है वह यह है की यदि उद्यमी स्वयं का ब्रांड स्थापित करके यह बिजनेस नहीं शुरू करना चाहता है तो वह महज कुछ हज़ार रुपयों में ही पोर्टेबल पॉपकॉर्न मेकिंग मशीन की मदद से यह बिजनेस शुरू कर सकता है। इसका अभिप्राय यह हुआ की कोई भी व्यक्ति कम से कम निवेश के साथ भी पॉपकॉर्न बनाने का बिजनेस शुरू कर सकता है और यह बात भी आज किसी से छिपी नहीं है की पॉपकॉर्न भारत में भी स्नैक्स के तौर पर लोकप्रिय होता जा रहा है।

और लोग इसे यात्रा करने के दौरान, सिनेमा हाल में फिल्म देखने के दौरान, अपने परिवार के साथ किसी पार्क इत्यादि में बैठने के दौरान खाना बेहद पसंद कर रहे हैं। इसके अलावा वर्तमान में विभिन्न प्रकार के फ्लेवर के साथ चमकती पैकेजिंग में भी पॉपकॉर्न इसलिए उपलब्ध हैं क्योंकि इन्हें पसंद करने वाले और उपभोग करने वाले लोगों में लगातार इजाफा हो रहा है। एक विश्वसनीय आंकड़े के मुताबिक वैश्विक पॉपकॉर्न बाजार वर्ष 2017 से वर्ष 2023 तक 7.6% CAGR की दर से बढेगा जिससे वर्ष 2023 तक इसकी मार्किट 15 बिलियन अमेरिकी डॉलर होने का अनुमान है।

यही कारण है की कई राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय कम्पनियाँ भी Popcorn Making Business में या तो उतर चुकी हैं या फिर उतरना चाहती हैं। पॉपकॉर्न के कुछ स्वास्थ्य लाभ भी हैं जिनकी लिस्ट इस प्रकार से है।

  • यह वजन कम करने में मददगार साबित होता है ।
  • यह ब्लड सुगर को नियंत्रित करने में भी सहायक होता है।
  • यह एक पूर्ण अनाज है।
  • इसमें विटामिन और मिनरल की प्रचुर मात्रा विद्यमान होती है।
  • यह शरीर में बीमारी को पैदा होने से रोकता है और आँखों की रोशनी बढ़ाने में भी सहायक होता है।        

पॉपकॉर्न बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to Start Popcorn making Business):

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में भी बता चुके हैं की पोर्टेबल Popcorn Making Machine के माध्यम से पॉपकॉर्न बनाने का बिजनेस प्रक्रियाओं और निवेश के आधार पर भी काफी आसान है। लेकिन इसमें उद्यमी को अपने उत्पाद को बेचने के लिए किसी भीड़ भाड़ वाली जगह पर खड़े रहने की आवश्यकता होती है। इसलिए हम यहाँ पर इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करने की बात न करके, एक ऐसे पॉपकॉर्न मेकिंग यूनिट की स्थापना करने की बात कर रहे हैं जहाँ से विभिन्न फ्लेवर में पॉपकॉर्न बनाकर खुद के ब्रांड नाम के साथ पैकिंग करके बाजार में बेचे जाते हैं।

इसलिए इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करने के लिए भी उद्यमी को वह सब प्रक्रियाएं पूर्ण करने की आवश्यकता होती है जो किसी अन्य बिजनेस शुरू करने के लिए होती हैं। तो आइये जानते हैं की कैसे कोई इच्छुक व्यक्ति खुद की पॉपकॉर्न बनाने की इकाई स्थापित कर सकता है।

1. जमीन और बिल्डिंग का प्रबंध करें

किसी भी प्रकार की विनिर्माण इकाई के लिए जगह और बिल्डिंग की आवश्यकता तो होती ही होती है, हाँ यह अलग बात है की बिजनेस की प्रकृति, आकार, उत्पादन क्षमता इत्यादि के आधार पर कम या अधिक जगह की आवश्यकता हो सकती है। इसलिए स्वभाविक है की यदि उद्यमी खुद का ब्रांड स्थापित करके पॉपकॉर्न बेचने की योजना बना रहा है तो उसे Popcorn Making Unit तो स्थापित करनी ही होगी, और इसके लिए उद्यमी को जगह और बिल्डिंग की भी आवश्यकता होगी ही।

एक औद्योगिक इकाई स्थापित करने के लिए उद्यमी को विनिर्माण स्थल, पैकिंग स्थल, स्टोर रूम, बिजली उपयोगिताओं और एक छोटा सा ऑफिस स्थापित करने के लिए भी जगह की आवश्यकता होती है। इसलिए इस तरह के व्यवसाय को शुरू करने के लिए उद्यमी को 850 से 1050 Square Feet जगह की आवश्यकता हो सकती है ।   

2. वित्त का प्रबंध करें (Fund arrangement for Popcorn making)

वित्त का प्रबंध करने से पहले उद्यमी को एक प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाने की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि प्रोजेक्ट रिपोर्ट एक ऐसा दस्तावेज होता है जिसमें व्यवसाय से जुड़ी सभी वित्तीय जानकारियां उल्लेखित होती हैं। प्रोजेक्ट रिपोर्ट में अनुमानित लागत और अनुमानित कमाई का भी ब्यौरा होता है जिससे उद्यमी यह जान पाने में सक्षम हो पायेगा की उसके व्यवसाय को शुरू करने में लगभग कितनी लागत आएगी। और जब उसे अनुमानित लागत के बारे में ज्ञात हो पायेगा तभी वह उसी के अनुसार वित्त का प्रबंध करने की योजना बना पाने में सफल हो पायेगा । वित्त का प्रबंध करने के लिए उद्यमी के पास सरकारी योजनाओं के तहत सब्सिडी ऋण, बैंक ऋण और व्यक्तिगत बचत जैसे स्रोत विद्यमान हैं।   

3. लाइसेंस और पंजीकरण प्राप्त करें

Popcorn making Business शुरू करने के लिए उद्यमी को निम्नलिखित लाइसेंस और पंजीकरणों की आवश्यकता हो सकती है ।

  • प्रोप्राइटरशिप, फर्म या कंपनी रजिस्ट्रेशन
  • जीएसटी रजिस्ट्रेशन
  • ट्रेड लाइसेंस और फैक्ट्री लाइसेंस
  • बैंक में चालू खाता
  • उद्यम पोर्टल रजिस्ट्रेशन
  • FSSAI Registration
  • ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन

4. मशीनरी और कच्चा माल खरीदें

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की Popcorn Making Business की शुरुआत तो एक छोटी सी पोर्टेबल मशीन से भी शुरू की जा सकती है, लेकिन यहाँ पर हम एक व्यवसायिक पॉपकॉर्न मेकिंग यूनिट स्थापित करने में इस्तेमाल में काम आने वाली मशीनरी और उपकरणों की बात कर रहे हैं। जिनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।  

  • पॉपकॉर्न पापर
  • कन्वेयर
  • कुलिंग टंबलर
  • मसाला सीजनिंग मशीन
  • विब्रो ड्रायर के साथ ऑनलाइन ड्रायर
  • स्लरी केतली
  • कारमेलिज़ेर
  • जेड कन्वेयर
  • पाउच पैकिंग मशीन
  • एयर कंप्रेसर, मापक यंत्र सहित अन्य मशीनरी और उपकरण

जहाँ तक कच्चे माल का सवाल है Popcorn Making Business में उपयोग होने वाला प्रमुख कच्चा माल मक्के के दाने, तेल, नमक, विभिन्न मसाले इत्यादि हैं, और ये पूरे भारत में आसानी से हर स्थानीय मार्किट में उपलब्ध हैं।

5. निर्माण कार्य शुरू करें (Start Popcorn Making Process):

उपर्युक्त दी गई Popcorn Making Machine के माध्यम से पॉपकॉर्न बनाने की प्रक्रिया बेहद सरल है जिसे कोई भी व्यक्ति केवल कुछ मिनटों का प्रशिक्षण लेके आसानी से सीख सकता है। सबसे पहले कच्चे माल को सूखा लिया जाता है और इसके उपर थोड़ा तेल अप्लाई किया जाता है उसके बाद इसे पॉपकॉर्न पोप्पिंग मशीन में दाल दिया जाता है जहाँ मक्के के दाने पॉपकॉर्न के रूप में परिवर्तित हो जाते हैं। ये मशीन क्रिस्पी और स्वादिष्ट पॉपकॉर्न उत्पादन करने के लिए डिजाईन की गई हैं इसलिए ये इनका उत्पादन करने के लिए सबकुछ करेंगी।

जब पॉपकॉर्न को आवश्यक फ्लेवर के अनुरूप बना दिया जाता है तो फिर इनकी पैकिंग इस तरह से की जाती है की उस पैकेट के अन्दर नमी न जाने पाय। कहने का आशय यह है की पॉपकॉर्न की पैकिंग के लिए नमी प्रूफ पैकेजिंग अति आवश्यक है तभी पॉपकॉर्न अन्तिम ग्राहक तक क्रिस्पी और स्वादिष्ट पहुँच पाएंगे। 

  

  1. पॉपकॉर्न मशीन बनाने की कीमत क्या होती है?

    Popcorn Making की पोर्टेबल मशीन भी आती है। जिसे आसानी से एक स्थान से दुसरे स्थान में ले जाया जा सकता है। इनकी कीमत 8000 रूपये से शुरू हो सकती है। लेकिन इस तरह की यह मशीन औद्योगिक इस्तेमाल के लिए उपयुक्त नहीं होती हैं।

  2. क्या मैं खुद का ब्रांड भी बना सकता हूँ?

    जी हाँ बिलकुल बना सकते हैं, वर्तमान में पॉपकॉर्न भी पैकेजिंग स्वरूप में काफी बिक रहे हैं। ब्रांड की सुरक्षा इत्यादि के लिए, आपको कुछ रजिस्ट्रेशन जैसे ट्रेडमार्क इत्यादि की आवश्यकता हो सकती है।   

  3. मैं अपने उत्पाद को कहाँ बेच सकता हूँ?

    पॉपकॉर्न एक सामान्य सी खाद्य आइटम है, जिसका इस्तेमाल घरों, सिनेमाघरों से लेकर राह चलते व्यक्तियों द्वारा भी किया जाता है। उत्पादित उत्पाद को प्रोविजनल स्टोर, स्नैक्स नमकीन की दुकानों इत्यादि में बेचा जा सकता है।

  4. क्या इस बिजनेस के लिए एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है?

    हालांकि गली मोहल्लों में बहुत सारे विक्रेता पोर्टेबल मशीन का इस्तेमाल करके, बिना एफएसएसएआई लाइसेंस के भी पॉपकॉर्न बेच रहे हैं। लेकिन औद्योगिक तौर पर Popcorn Making करने, और पैकेजिंग स्वरूप में इन्हें बेचने के लिए यह लाइसेंस अनिवार्य है।

अन्य लेख भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *