नमकीन बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें? Namkeen Business Plan in Hindi.

Namkeen Business की यदि हम बात करें तो यह व्यवसाय लोगों की खान पान सम्बन्धी बदलते स्वाद से जुड़ा हुआ बिजनेस है, जी हाँ नमकीन एक नहीं बल्कि अनेकों दिलकश स्वाद में बाज़ारों में उपलब्ध हैं । वह इसलिए क्योंकि अलग अलग लोगों द्वारा इनका अलग अलग स्वाद पसंद किया जाता रहा है। नमकीन शब्द की उत्पति नमक नामक शब्द से ही हुई है, इसलिए इसका इस्तेमाल दिलकश स्नैक आइटम को संबोधित करने के लिए किया जाता है। भारतीय भोजन की यदि हम बात करें तो इन्हें पकाने में सफ़ेद एवं काले दोनों प्रकार के नमक का इस्तेमाल किया जाता है, यह दोनों प्रकार का नमक लोगों को नमकीन स्वाद प्रदान करता है। भारतीय बाज़ारों में आम नमकीन के तौर पर जैसे स्नैक्स में खारा, फरसन, चिवड़ा, सेव, चिप्स और भुजिया इत्यादि शामिल हैं। इसके अलावा रतलाम और इंदौर के नमकीन अपने स्वाद के लिए पूरे देश में प्रसिद्ध हैं। इसलिए इन शहरों से तो Namkeen Business शुरू करना लाभकारी हो ही सकता है, बल्कि उद्यमी इस तरह के व्यवसाय को देश के किसी भी क्षेत्र से शुरू कर सकता है। नमकीन की यदि हम बात करें तो इसका इस्तेमाल मुख्य भोजन के तौर पर न करके इसे भोजन के बीच खाया जाता है। और विभिन्न पेय पदार्थों जैसे चाय, कॉफ़ी, कोल्ड ड्रिंक इत्यादि के साथ इसे खाया जाता है। स्नैक्स कई स्वरूपों में बाजार में उपलब्ध है इनमें से एक स्वरूप नमकीन भी है इनमें पैक किये गए नमकीन एवं खुले नमकीन इत्यादि शामिल हैं। परम्परागत रूप से नमकीन को घरों पर उपलब्ध सामान से ही बनाया जाता है इनमें आटा, दाल, ड्राई फ्रूट, सब्जी, फल इत्यादि शामिल हैं। वैसे देखा जाय नमकीन को आम तौर पर पोर्टेबल, त्वरित और संतोषजनक भोजन के तौर पर इस्तेमाल में लाया जाता है। इसलिए प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ बनाये गए खाद्य पदार्थों की तुलना में लम्बे समय तक ख़राब नहीं होने वाले, टिकाऊ एवं आसानी से ईधर उधर ले जाने में आसान होते हैं। यही कारण है की भारत में हर गली मोहल्ले में नमकीन की बिक्री बड़े पैमाने पर होती है इसलिए Namkeen Business शुरू करना कमाई की दृष्टी से भी उपयुक्त हो सकता है।

Namkeen Business plan hindi

नमकीन मार्किट विश्लेषण

एक्सट्रूडेड स्नैक्स में नमकीन एक बेहद प्रमुख श्रेणी है और नमकीन का बाजार संगठित एवं असंगठित दोनों क्षेत्रों में विभाजित है। संगठित क्षेत्र के कुछ ही बड़े नाम हैं जो Namkeen Business कर रहे हैं इसलिए कुल मिलाकर देखा जाय तो नमकीन के बाजार पर असंगठित क्षेत्रों का कब्ज़ा है। एक आंकड़े के मुताबिक भारत की नमकीन मार्किट 2024 तक 1 बिलियन रुपयों से भी अधिक की हो जायेगी। भविष्य में भारत की नमकीन मार्किट की स्थिति क्या होगी उसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है की 2024 तक इसके दोहरे अंक के CAGR के साथ बढ़ने की संभावना है। भारत के स्नैक्स बाजार में संगठित एवं असंगठित क्षेत्रों के बीच कड़ी प्रतिस्पर्धा है। लेकिन इसके बावजूद भी भारत के स्नैक्स बाजार में असंगठित बाजार हावी हैं लेकिन 2024 तक इस परिदृश्य में बदलाव की उम्मीद जताई गई है। क्योंकि भारत में स्नैक्स मार्किट लोगों की जीवनशैली में हो रहे बदलाव, बढ़ते शहरीकरण, बढ़ते मध्यम वर्ग की आबादी, स्थानीय उपलब्धता और छोटे पैकेज के आकार में स्नैक्स की उपलब्धता, कम कीमत और क्षेत्रीय स्वाद पर ध्यान केंद्रित करने की कंपनी की रणनीतियों के कारण बढती जा रही है । इसलिए Namkeen Business शुरू करना किसी भी उद्यमी के लिए लाभकारी हो सकता है।

नमकीन बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें ( How to Start Namkeen Business in India):

Namkeen Business को उद्यमी दो तरीकों से शुरू कर सकता है पहला तरीका यदि उद्यमी चाहता है की वह अपने द्वारा निर्मित नमकीन को खुले, या फिर बड़े पैकेट जैसे एक किलो इत्यादि में बेचे और वह भी बिना किसी ब्रांड नाम के। तो वह इस तरह का यह व्यवसाय स्वयं के घर में उपलब्ध कोई खाली कमरे से भी यह बिजनेस शुरू कर सकता है। लेकिन यदि उद्यमी चाहता है की वह अपने व्यवसाय को हल्दीराम, बीकानेर, बाबा जी इत्यादि की तर्ज पर शुरू करे तो उसे विभिन्न क़दमों को उठाने की आवश्यकता हो सकती है। इसका अभिप्राय यह है की पहली दशा में उद्यमी अपने व्यवसाय को कुटीर उद्योग के तौर पर भी शुरू कर सकता है जिसमें फ़ूड लाइसेंस को छोड़कर शायद ही किसी अन्य लाइसेंस की अनिवार्यता हो। लेकिन यदि उद्यमी स्वयं का ब्रांड नाम स्थापित करके Namkeen Business शुरू करना चाहता है तो उसे सभी उचित कदम उठाने की आवश्यकता हो सकती है, जिनका संक्षिप्त वर्णन निम्नवत है।

1. जगह या बिल्डिंग का प्रबंध

यद्यपि उद्यमी को इस तरह का व्यवसाय शुरू करने में कितनी जगह की आवश्यकता होगी वह इस बात पर निर्भर करता है की उद्यमी की योजना व्यवसाय को किस आकार पर शुरू करने की है। यदि उद्यमी की योजना अधिक नमकीन उत्पादन करने का है तो उसे जगह की भी आवश्यकता अधिक होगी। लेकिन यदि उद्यमी की योजना कम उत्पादन क्षमता का प्लांट स्थापित करने की है तो स्वाभाविक है की जगह की आवश्यकता भी कम होगी। अब चूँकि उद्यमी को उस परिसर में न सिर्फ कार्यस्थल के लिए जगह की आवश्यकता होती है बल्कि Namkeen Business में इस्तेमाल में लाये जाने वाले कच्चे माल को स्टोर करने के लिए स्टोर और उत्पादित उत्पाद को रखने के लिए स्टोर, इन्वेंटरी रूम, ऑफिस इत्यादि की भी आवश्यकता हो सकती है। इसलिए एक औसतन नमकीन बनाने का प्लांट स्थापित करने के लिए 700-800 वर्ग फीट जगह की आवश्यकता हो सकती है। उद्यमी किसी स्थानीय बाजार में कोई दुकान इत्यादि किराये पर लेकर भी इस तरह का यह बिजनेस शुरू कर सकता है। लेकिन ध्यान रहे रेंट एग्रीमेंट इत्यादि बनवाना अत्यंत आवश्यक है।         

2. वित्त का प्रबंध (Fund Arrangement for Namkeen Business):

वैसे यदि उद्यमी छोटे स्तर पर इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करना चाहता है तो उसे Namkeen Business शुरू करने में लगभग 5-7 लाख रूपये खर्च करने की आवश्यकता हो सकती है । लेकिन यदि उद्यमी थोड़े बड़े स्तर पर इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करने की योजना बना रहा है तो उसे उपर्युक्त रकम सिर्फ मशीनरी पर ही खर्च करनी पड़ सकती है । इसलिए इस परियोजना को शुरू करने में आने वाली लागत भी पूर्ण रूप से उद्यमी के बिजनेस के आकार पर ही निर्भर करती है। जहाँ तक वित्त के प्रबंध का सवाल है उद्यमी चाहे तो अपनी व्यक्तिगत बचत, परिवारजनों, दोस्तों, रिश्तेदारों से अनौपचारिक ऋण और औपचारिक ऋण के स्रोतों जैसे बैंक और अन्य वित्तीय संस्थानों के माध्यम से वित्त का प्रबंध कर सकता है । 

3. लाइसेंस एवं पंजीकरण (License for Namkeen Business)

खुद का Namkeen Business शुरू करने के लिए उद्यमी को सबसे पहले अपने व्यवसाय को प्रोप्राइटरशिप के तौर पर रजिस्टर करना होगा। हालांकि शुरूआती दौर में जीएसटी रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता तो नहीं होगी लेकिन इनवॉइस इत्यादि जनरेट करने के लिए उद्यमी चाहे तो वोलंटरी रजिस्ट्रेशन कर सकता है। चूँकि यह खाद्य पदार्थ से जुड़ा हुआ व्यवसाय है इसलिए फ़ूड लाइसेंस की भी आवश्यकता होगी। इसके अलावा बैंक में चालू खाता और स्थानीय प्राधिकरण से ट्रेड लाइसेंस, उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन इत्यादि की भी आवश्यकता हो सकती है।

4. मशीनरी और कच्चे माल की खरीदारी

नमकीन बनाने के व्यवसाय में इस्तेमाल में लायी जाने वाली मशीनरी उत्पादन क्षमता एवं स्नैक्स के प्रकार के आधार पर अंतरित हो सकती है। Namkeen Business में इस्तेमाल में लायी जाने वाली कुछ प्रमुख मशीनरी की लिस्ट इस प्रकार से है।

  • डफ मिक्सर (Dough Mixer)
  • भुजिया सेव मशीन
  • डीजल बर्नर के साथ रेक्टंगुलर बैच टाईटलिंग फ्रायर
  • सीजनिंग ड्रम
  • पैकेजिंग मशीन 

कुछ प्रमुख कच्चे माल की लिस्ट निम्नवत है।

  • बेसन
  • तेल
  • मसाले
  • दाल
  • मूंगफली के दाने
  • आलू

Namkeen Business शुरू करने के लिए आवश्यक मशीनरी, उपकरण एवं कच्चा माल किसी भी स्थानीय बाजार से आसानी से ख़रीदा जा सकता है।

5. नमकीन का निर्माण कार्य शुरू करना (Start Namkeen Manufacturing):

Namkeen Manufacturing Process में सबसे पहले डफ मिक्सर की मदद से डफ तैयार किया जाता है यानिकी सबसे पहले लोई तैयार की जाती है उसके बाद उस लोई से नमकीन का आकार तैयार किया जाता है। उसके बाद बनाये गए नमकीन के आकार को फ्राइंग सेक्शन में डाला जाता है फ्राइंग करने के बाद इसमें सभी सामग्री जैसे मूंगफली के दाने, मसाले, स्वादानुसार नमक एवं अन्य मिला लिए जाते हैं। उसके बाद तैयार नमकीन को 50 Gram, 100 Gram, 250 Gram, 500 Gram और एक किलो इत्यादि के पाउच में पैक कर दिया जाता है। यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है की Namkeen Business में एक नहीं बल्कि उद्यमी अनेकों प्रकार की नमकीन बना रहा होता है इसलिए प्रत्येक नमकीन को बनाने का तरीका अलग अलग हो सकता है।  

अन्य लेख भी पढ़ें

One thought on “नमकीन बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें? Namkeen Business Plan in Hindi.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *