Mobile App development business शुरू करना आपके लिए कितना लाभकारी और जीवन को बदलने वाला निर्णय हो सकता है । शायद यह बताने की आवश्यकता हमें नहीं होनी चाहिए, क्योंकि यदि आप स्वयं भी कोई स्मार्टफ़ोन इस्तेमाल करते होंगे तो उसमें आपने कई तरह की एप्लीकेशन इंस्टाल करके रखी होंगी। जो आपको अलग अलग तरह के कार्यों को निष्पादन करने में सहायक होंगी ।

जी हाँ हमारे देश भारत में बीते कुछ वर्षों में इन्टरनेट उपयोगकर्ताओं और स्मार्टफ़ोन उपयोगकर्ताओं की संख्या में काफी तीव्र वृद्धि हुई है। जिसके चलते Mobile App Development कम्पनियों की माँग में भी तीव्र वृद्धि देखी जा सकती है। एक रिपोर्ट के अनुसार भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा सॉफ्टवेयर स्टार्टअप इकोसिस्टम बन गया है। इसलिए टेक्नोलॉजी से सम्बंधित प्रोजेक्ट शुरू करने में आपको बहुत अधिक परेशानी नहीं उठानी पड़ती है।

Mobile app development

आज जिस परिवेश में हम रह रहे हैं और जैसा जीवन जीना हम पसंद करने लगे हैं उसमें टेक्नोलॉजी का अहम् योगदान हो गया है। यही कारण है की हर छोटा बड़ा व्यवसाय तकनीक से जुड़कर अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने की दौड़ में लगा हुआ है। ऐसे में यदि आप टेक्नोलॉजी प्रेमी व्यक्ति हैं तो Mobile App development Business शुरू करना आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

कहने का आशय यह है की इस डिजिटलिकरण के युग में छोटे से छोटा और बड़े से बड़ा व्यवसाय इन्टरनेट उपयोगर्ताओं को अपने ग्राहक में बदलने के लिए प्रयासरत है । इसलिए आज हम अपने इस लेख के माध्यम से नए ज़माने के इस नए बिजनेस के बारे में बात करने वाले हैं ।

मोबाइल एप्प डेवलपमेंट बिजनेस कैसे शुरू करें

यद्यपि बहुत सारे लोगों को लगता होगा की Mobile App Development Business को सिर्फ सॉफ्टवेयर इंजिनियर या ऐसे लोग कर सकते हैं जिन्हें मोबाइल एप्प डेवलप करना आती हो। लेकिन यह सत्य नहीं है हाँ इतना जरुर है की यदि इस तरह का बिजनेस शुरू करने वाला स्वयं कोई सॉफ्टवेयर इंजिनियर या वेब डेवलपमेंट से जुड़ा हुआ हो, तो उसके लिए यह एक अतिरिक्त लाभ है।

कोई भी टेक्नोलॉजी से प्यार करने वाला व्यक्ति मोबाइल एप्प बनाने का बिजनेस शुरू कर सकता है । वह यह कैसे करेगा आगे हम इसी विषय पर विस्तृत तौर पर बात करने वाले हैं।

1. अपने आईडिया पर अच्छे से विचार करें

पहले ही आप कितने अच्छे तैराक हों, लेकिन पानी की गहराई और बहाव को समझे बिना उसमें डुबकी लगाना कभी कभी जानलेवा भी हो सकता है। ठीक इसी प्रकार किसी के कहने पर या कुछ भी पढ़ लेने से कोई निर्णय लेने से पहले उसके बारे में अच्छे ढंग से रिसर्च कर लें। क्या यह एक ऐसा बिजनेस आईडिया है जो आपको सबसे अधिक पसंद है और आप इसे करने के लिए एक उपयुक्त उम्मीदवार हैं।

यदि Mobile app Development Business के अलावा कई अन्य व्यापारिक विचार भी आपके दिमाग में चल रहे हैं, तो उन पर भी पूर्ण रिसर्च कीजिये और उसके बाद ही अपने लिए अपनी योग्यता और पसंद के मुताबिक किसी विचार का चयन करें। यदि इसके बाद भी आप अपने विचार के प्रति आश्वस्त नहीं हैं तो इसे मार्किट एक्सपर्ट द्वारा चेक करवाएं और उनकी सलाह लें ।

ध्यान रहे की किसी भी व्यवसाय में नयापन उसे एक नयी पहचान देता है, इसलिए यदि आप खुद का Mobile app development Business शुरू कर रहे हैं तो यह बिलकुल न सोचें की आप अकेले हैं जो इस तरह का यह व्यवसाय शुरू कर रहे हैं । बल्कि वर्तमान में इस तरह के व्यवसाय में भी उच्च प्रतिस्पर्धा है। इसलिए अपने बिजनेस को आप अनूठा स्वरूप कैसे प्रदान करेंगे इस बारे में भी विचार करें।

2. डिटेल पर आधारित मार्किट रिसर्च करें    

भले ही आप पूरे मोबाइल एप्प डेवलपमेंट मार्किट को बदलने का इरादा रखकर ही इस बिजनेस में कदम क्यों न रख रहे हों। और आपको अपने बिजनेस आईडिया पर कितना ही विश्वास क्यों न हो । लेकिन जब तक आप अपने संभावित ग्राहकों और Mobile App development बाज़ार को नहीं जानेंगे, तब तक आप सफलता के शीर्ष पर नहीं पहुँच सकते हैं।

एक सफल व्यवसाय को चलाने के लिए उससे सम्बंधित बाज़ार को समझना और बाज़ार में फिट होने लायक उत्पाद का निर्माण करना अत्यंत आवश्यक होता है। आपको अपने संभावित ग्राहकों को समझना होगा, जैसे यदि आप किसी छोटे शहर में रह रहे हैं तो आप वहाँ पर उपलब्ध छोटे छोटे व्यवसायियों के लिए भी मोबाइल एप्प का निर्माण करने के बारे में विचार कर सकते हैं।

एक Mobile app development Company को अपने ग्राहकों के लिए मोबाइल एप्प का निर्माण करना होता है। आपके ग्राहक के तौर पर छोटे बड़े दुकानदार, स्कूल चलाने वाले उद्यमी, हॉस्पिटल चलाने वाले उद्यमी इत्यादि कोई भी हो सकता है। ऐसे मोबाइल एप्प जो पूरी तरह असफल रहे उनका भी अध्यन करें, ताकि वही गलती आप न करें जो उन्होंने की थी ।

3. आदर्श प्लेटफोर्म का चयन करें   

वर्तमान में दुनिया में प्रचलित स्मार्टफोन ऑपरेटिंग सिस्टम के तौर पर IOS एवं एंड्राइड सबसे ज्यादा प्रसिद्ध हैं । इसलिए आपको इन प्लेटफोर्म में से किसी एक का चुनाव अपने संभावित ग्राहकों के पास उपलब्ध स्मार्टफ़ोन के आधार पर करनी होगी। आम तौर पर IOS ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल एप्पल के आई फ़ोन इत्यादि में होता है, और ये फ़ोन महंगे होने के कारण आर्थिक रूप से संपन्न वर्ग के पास ही अधिक रहते हैं।

वैसे आप चाहें तो दोनों तरह के प्लेटफॉर्म का चुनाव भी अपने Mobile App Development Business के लिए कर सकते हैं। क्योंकि आम तौर पर देखा गया है की कंपनियाँ या उद्यमी अपनी एप्प दोनों प्लेटफोर्म के लिए बनाना पसंद करते हैं। ताकि वे अधिक से अधिक लोगों तक अपनी पहुँच बना सकें।

कुछ ग्राहक ऐसे भी हो सकते हैं जो आपसे बेटिंग, गेमिंग इत्यादि एप्प बनाने के लिए कहें, और इन एप्प को आप प्ले स्टोर या एप्पल स्टोर में नहीं डाल सकते, क्योंकि यह एप्प उनकी टर्म्स एवं कंडीशन का उल्लंघन करती हैं। लेकिन फिर भी इस तरह की मोबाइल एप्प बनाते समय आपको यह सुनिश्चित करना होगा की या दुनिया के प्रसिद्ध मोबाइल ऑपरेटिंग सिस्टम में अच्छी तरह चल सकें। और इन्हें यूजर को डाउनलोड करवाने के लिए आप एक अलग सी वेबसाइट भी बना सकते हैं ।

4. मोबाइल एप्प डेवलपमेंट के लिए टीम तैयार करें

जैसा की हम यहाँ पर स्पष्ट कर देते हैं की की एक Mobile App Development कंपनी के तौर पर कार्य करने के लिए आपको अपने लिए नहीं बल्कि अपने ग्राहकों के लिए मोबाइल एप्प का निर्माण करना होता है । आपके ग्राहकों के तौर पर कोई स्कूल, हॉस्पिटल, दुकान, प्रतिष्ठान इत्यादि हो सकते हैं । इसलिए यदि आप खुद एक कोडर, डेवलपर, डिज़ाइनर इत्यादि हैं तो ही आप अकेले किसी मोबाइल एप्प बनाने का कार्य कर सकते हैं।

लेकिन एक कंपनी के तौर पर कार्य करने के लिए आपको कोडर, डेवलपर, डिजाइनिंग इत्यादि कामों को अलग अलग विभाजित करना चाहिए और इन्हें पूर्ण करने की जिम्मेदारी अलग अलग व्यक्ति को दी जानी चाहिए। इसलिए आपको अपने Mobile App Development Business को शुरू करने के लिए एक टीम तैयार करनी होगी आप चाहें तो इन्हें सैलरी पर भी रख सकते हैं।

लेकिन शुरूआती दौर में यह आपके लिए महंगा साबित हो सकता है इसलिए बेहतर है की जब काम मिले तब आप किसी फ्रीलांसर इत्यादि के माध्यम से ये काम आउटसोर्स कर लें । या फिर आप कोडर, डेवलपर, डिज़ाइनर, फोटोग्राफर इत्यादि से पहले ही बात करके रखें और काम मिलने पर आसानी से उनसे काम करवा लें।

5. प्रतिस्पर्धा को ध्यान में रखकर प्राइस तय करें 

अपने Mobile App Development के लिए टीम तैयार कर लेने के बाद आपको अपने प्रोडक्ट की कीमत निर्धारित करनी होगी। ध्यान रहे सभी मोबाइल एप्प एक समान नहीं होती हैं, कुछ तो बेहद जटिल मोबाइल एप्प होती हैं जिनके दम पर पूरी एक कंपनी चल सकती है। लेकिन ध्यान रहे यहाँ पर आपको उन लोगों को फोकस करके अपने बिजनेस को शुरू करना है जो पहले से अपना कोई छोटा मोटा व्यवसाय कर रहे हैं और उसे वे डिजिटल बनाना चाहते हैं। इसमें कोई होटल, ढाबा, दुकान, स्कूल, हॉस्पिटल इत्यादि हो सकते हैं।

इस तरह की मोबाइल एप्प डेवलपमेंट करने और उसे एंड्राइड एवं IOS store में सबमिट करने सहित पूरे खर्चों को ध्यान में रखकर ही कीमत का निर्धारण करें। इसके अलावा कीमत निर्धारण करने से पहले प्रतिस्पर्धा का भी विश्लेषण करना आवश्यक होता है। इसके अलावा आप चाहें तो वेब डेवलपमेंट से सम्बंधित अन्य सेवाएँ भी अपने ग्राहकों को प्रदान कर सकते हैं।       

3. मार्केटिंग की रणनीति तैयार करें

अब जब आप अपनी टीम तैयार कर लेते हैं और प्रोडक्ट की कीमत निर्धारित कर लेते हैं तो उसके बाद ग्राहक का इंतजार करने से अच्छा यह है की आप खुद ग्राहक तक पहुँचने की कोशिश करें। अपने संभावित ग्राहकों तक पहुँचने के लिए आपको मार्केटिंग की रणनीति तैयार करनी होगी। इस मार्केटिंग रणनीति में आप शुरू में मार्केटिंग करने के कुछ फ्री तकनीकों का और कुछ ऐसी तकनीक जैसे गूगल एड इत्यादि जिनमें कम लागत आती हो उनकी योजना बनाएँ।

ध्यान रहे चाहे Mobile App Development business हो या कोई अन्य सबके लिए मार्केटिंग बेहद जरुरी होती है । एक सफल मार्केटिंग प्लान आपके व्यवसाय को फर्श से अर्श तक पहुँचा सकता है ।  शुरूआती दौर में सस्ते एवं फ्री मार्केटिंग तकनीक जैसे सोशल मीडिया, ऑनलाइन एडवरटाइजिंग इत्यादि पर फोकस करें।

अन्य लेख भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published

error: Content is protected !!