Herbal Toothpaste निर्माण बिजनेस कैसे शुरू करें। पूरी जानकारी।

वर्तमान में लोगों द्वारा Herbal Toothpaste को खासा पसंद किया जाने लगा है वह इसलिए क्योंकि इसे बनाने में प्राकृतिक जड़ी, बूटियों इत्यादि का इस्तेमाल किया जाता है। जैसा की हम सब जानते हैं की जब टूथपेस्ट या टूथ पाउडर इत्यादि का निर्माण व्यवसायिक तौर पर नहीं किया जाता था। तो लोग अपने दांतों की सफाई के लिए प्राकृतिक चीजों जैसे नीम के तने, लौंग इत्यादि का भी इस्तेमाल करते थे।

आज भी भारत में बहुत सारे ग्रामीण इलाके हैं जहाँ पर दांतों की सफाई करने के लिए प्राचीन पद्यति को ही अपनाया जाता है यहाँ तक की लोग राख या कोयले से भी दांत साफ़ करते हुए देखे जा सकते हैं। कहने का आशय यह है की मनुष्य की संरचना में दांतों का अहम् योगदान है दांतों के बिना मनुष्य को भोजन को काटना या चबा पाना मुमकिन नहीं है, तो वहीँ साफ़ एवं चमकीले दांत किसी भी मनुष्य चाहे वह स्त्री हो या पुरुष की सुन्दरता में चार चाँद लगा देते हैं।

इसलिए लोग वर्तमान में दांतों के स्वास्थ्य के प्रति काफी जागरूक और सचेत हो गए हैं और जड़ी बूटियों से निर्मित Herbal Toothpaste के फायदों को देखते हुए इसका इस्तेमाल बड़ी मात्रा में करने लगे हैं। कवि भी जब किसी सुंदरी का जिक्र अपनी कविता में करते हैं तो उसके अन्य अंगों का जिक्र करते हुए मोती जैसे चमकीले दांतों का भी जिक्र करना कभी नहीं भूलते। इसलिए वर्तमान में यह जरुरी नहीं है की टूथपेस्ट का इस्तेमाल सिर्फ शहरी इलाकों में रहने वाले लोग ही करते होंगे।

बल्कि ग्रामीण इलाकों में निवासित जनता भी सुबह उठकर दांत साफ़ करने की आदी हो चुकी है और ग्रामीण इलाकों में भी पारम्परिक दातुनों की जगह Herbal Toothpaste इत्यादि ने ले ली है। इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से यही जानने का प्रयत्न करने वाले हैं की यदि कोई व्यक्ति खुद का इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करना चाहता है तो वह यह कैसे कर सकता है।

Herbal Toothpaste Manufacturing in hindi

हर्बल टूथपेस्ट का परिचय

ओरल केयर प्रोडक्ट की यदि हम बात करें तो आम तौर पर इन्हें दांतों और मुहँ की देखभाल करने वाले उत्पादों के रूप में जाना जाता है। और टूथपेस्ट इनके रखरखाव में इस्तेमाल में लाये जाने वाले विभिन्न उत्पादों में से एक ऐसा उत्पाद है जो इनके विशेष नैदानिक संकेतों के आधार पर उपलब्ध होता है इनमें अन्य सामग्री जैसे दांतों को सफ़ेद करने वाले पाउडर और डेन्चर देखभाल सामग्री भी शामिल है।

चाहे Herbal Toothpaste हो या फिर कोई अन्य वर्तमान में यह मुहँ और दांतों की स्वच्छता बनाये रखने के इस्तेमाल में लाये जाने वाला एक बेहद महत्वपूर्ण उत्पाद है यह मनुष्य की दिनचर्या में शामिल है। इसलिए इस उत्पाद के ग्राहक के तौर पर भारतवर्ष की ही नहीं अपितु पूरे विश्व की जनता भी शामिल है। वह इसलिए क्योंकि टूथपेस्ट का इस्तेमाल टूथब्रश के साथ दांतों और मसूड़ों से खाद्य मलबे और पीली पट्टिका इत्यादि को हटाने में मदद करता है। इसके अलावा टूथपेस्ट मनुष्य के दांतों को चमकाने साँसों को तरोताजा रखने और उसे आस पास के माहौल में बेझिझक रहने योग्य बनाता है।

अब हम चाहे Herbal Toothpaste की बात करें या सामान्य टूथपेस्ट की, टूथपेस्ट एक गाढ़ा पेस्ट या फिर जैल होता है। और यह दांतों के डेंटिफायर या सफाई एजेंट के तौर पर काम करता है दूसरी भाषा में टूथपेस्ट को पेस्ट या जैल रूप में उपलब्ध एक अर्ध ठोस डोज है जो दांतों के स्वास्थ्य को बनाये रखने में मददगार होते हैं ।

और दांतों को घिसकर चमकाने में भी मदद करते हैं जिससे सौन्दर्य प्रभाव को बनाये रखने में भी ये कारगर होते हैं। रोज रोज टूथपेस्ट और टूथब्रश की मदद से दांतों की सफाई करने पर दांतों के दर्द, हैलिटोसिस और गिंगिवाइटिस जैसी मसूड़ों की बीमारी के खिलाफ लड़ा जा सकता है क्योंकि नियमित तौर पर टूथब्रश करने से ये दांतों से दन्त प्लेग और खाद्य कणों को समाप्त कर देते हैं।

यही कारण है मि अक्सर जागरूक लोग दिन के हर भोजन के बाद दांतों की सफाई करना पसंद करते हैं और प्रत्येक घर में कोई न कोई टूथपेस्ट अवश्य इस्तेमाल में लाया जाता है।

Herbal Toothpaste का उपयोग और मार्किट विश्लेषण  

वर्तमान में हम देखते हैं की चाहे बड़े हों या बच्चे सबमें खान पान की आदतें बदलती जा रही हैं लोग तरह तरह का बाहर का खान या पहले से रेडीमेड खाना बेहद पसंद करने लगे हैं, जिसके चलते खान पान की आदतें ख़राब हो रही हैं और ओरल स्वास्थ्य पर भी इसका बुरा असर हो रहा है।

ऐसे में लोग अपने ओरल स्वास्थ्य के प्रति काफी चिंतित एवं जागरूक दिखाई देते हैं जिसके चलते Herbal Toothpaste का इस्तेमाल धीरे धीरे बढ़ने लगा है। कहने का आशय यह है की लोग अब रासायनिक उत्पादों से अधिक प्राकृतिक उत्पादों की तरफ बढ़ रहे हैं क्योंकि प्राकृतिक चीजों से निर्मित उत्पादों के दुष्प्रभाव बेहद कम देखने को मिलते हैं।

इसलिए कहा जा सकता है की लोगों का अपने ओरल स्वास्थ्य के प्रति बढती जागरूकता ने ओरल उत्पादों जैसे टूथपेस्ट और दांत सफ़ेद करने वाले पाउडर की बिक्री में बेहद अहम योगदान निभाया है। और भारत जनाधिक्य में विश्व में दूसरा सबसे बड़ा देश होने के कारण यहाँ बड़ी बड़ी मल्टीनेशनल कम्पनियां टूथपेस्ट बनाने के व्यवसाय में संलिप्त हैं।

लेकिन इसके बावजूद भी स्थानीय स्तर पर यदि कोई शोध की हुई प्राकृतिक जड़ी, बूटियों का इस्तेमाल करके Herbal Toothpaste बनाने का व्यापार शुरू करता है तो इस तरह के इस उत्पाद की बिक्री की संभावना स्थानीय स्तर पर भी बेहद प्रबल है।

हर्बल टूथपेस्ट निर्माण बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to Start Herbal Toothpaste Manufacturing Business):

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में भी बता चुके हैं की टूथपेस्ट एक ऐसा उत्पाद है जिसे हर घर में प्रत्येक दिन एक से अधिक बार इस्तेमाल में लाया जाता है । इसलिए इसके लिए टारगेट ग्राहक शहरों से लेकर ग्रामीण इलाकों, देश से लेकर विदेश तक हर जगह उपलब्ध हैं।

कहने का आशय यह है की Herbal Toothpaste  का निर्माण कर लेने के बाद उद्यमी के सामने यह समस्या तो कम से कम नहीं आने वाली है की वह अपने उत्पाद कोई बेचे तो बेचे कहाँ? क्योंकि ऐसे उत्पाद को बेचने की शुरुआत स्थानीय क्षेत्र से भी शुरू हो सकती है। लेकिन उद्यमी को यह बात भी नहीं भूलनी चाहिए की इस तरह के उत्पाद खरीदने के लिए ग्राहकों द्वारा दुकानदार से किसी विशेष ब्रांड का टूथपेस्ट अवश्य माँगा जाता है।

इसलिए यह उद्यमी को तय करना होगा की वह स्थानीय स्तर पर उपभोक्ताओं में उसके उत्पाद को लेकर विश्वास कैसे पैदा करेगा? क्योंकि जब तक उपभोक्ताओं में उसके उत्पाद को लेकर विश्वास पैदा नहीं होगा तब तक वे उसके उत्पाद को शायद ही खरीदें।

और इस कारण हो सकता है की कोई भी दुकानदार उसके उत्पाद को बेचने से भी कतराए, क्योंकि अक्सर देखा गया है दुकानदार भी वही उत्पाद अपनी दुकान में रखना पसंद करते हैं जो जल्दी बिक सकें। तो आइये जानते हैं की कैसे कोई इच्छुक व्यक्ति खुद का Herbal Toothpaste Manufacturing Business शुरू कर सकता है।

1. जमीन और बिल्डिंग का प्रबंध करें

इस तरह की इकाई स्थापित करने के लिए उद्यमी को विनिर्माण स्थल के लिए जगह, स्टोर रूम के लिए जगह, बिजली उपयोगिताओं जैसे जनरेटर इत्यादि के लिए जगह और ऑफिस स्थापित करने के लिए जगह की आवश्यकता होती है। इसलिए देखा जाय तो कुल मिलाकर उद्यमी को 800-1200 Suare Feet जगह की आवश्यकता हो सकती है।

यदि उद्यमी के पास स्वयं की गैर कृषि योग्य भूमि है तो वह वहीँ पर इस तरह की इकाई स्थापित करने का विचार कर सकता है। लेकिन यदि ऐसा नहीं है तो कोई बनी बनाई बिल्डिंग रेंट या लीज पर लेना उचित हो सकता है । लेकिन इतना जरुर है की Herbal Toothpaste बनाने के लिए उद्यमी को हर्बल प्रोडक्ट जैसे काली मिर्च, तोमर के बीज, लंबी मिर्च, बबूल, नीम इत्यादि की आवश्यकता होती है।

इसलिए एक ऐसी लोकेशन जहाँ पर इस तरह के हर्बल प्रोडक्ट उत्पादित किये जाते हों, वहां पर इस तरह का व्यवसाय स्थापित करना अधिक लाभकारी हो सकता है।  

2. Herbal Toothpaste बिजनेस के लिए वित्त का प्रबंध करें

व्यवसाय शुरू करना कोई घर के हिसाब किताब रखने जितना आसान तो है नहीं, इसलिए उद्यमी को अपने Herbal Toothpaste Manufacturing के लिए एक प्रभावी बिजनेस प्लान और प्रोजेक्ट रिपोर्ट अवश्य बना लेनी चाहिए।

क्योंकि यही वह दस्तावेज होगा जिसके माध्यम से उद्यमी यह जान पायेगा की उसके व्यवसाय को शुरू करने में कुल कितनी लागत आएगी। और जब उसे लागत का पता चलेगा तभी वह सरकारी योजनाओं के तहत मिलने वाले सब्सिडी ऋण, बैंक ऋण या फिर अपनी व्यक्तिगत बचत से वित्त का प्रबंध कर पाने में सक्षम होगा।   

3. आवश्यक लाइसेंस और पंजीकरण लें

शुरूआती दौर में उद्यमी को Herbal Toothpaste Manufacturing Business शुरू करने के लिए निम्नलिखित लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता हो सकती है ।

  • रजिस्ट्रार ऑफ़ कंपनीज के तहत रजिस्ट्रेशन
  • जीएसटी रजिस्ट्रेशन
  • ट्रेड लाइसेंस या फैक्ट्री लाइसेंस
  • फायर डिपार्टमेंट और पोल्यूशन डिपार्टमेंट से एनओसी
  • एफएसएसएआई रजिस्ट्रेशन वैसे टूथपेस्ट पर्सनल केयर प्रोडक्ट की श्रेणी में आता है, लेकिन यदि इसे कॉस्मेटिक प्रोडक्ट की श्रेणी में रखा गया होगा, तो कॉस्मेटिक लाइसेंस की भी आवश्यकता हो सकती है।
  • उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन।
  • ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन

4. Herbal Toothpaste बिजनेस के लिए मशीनरी और कच्चा माल खरीदें

Herbal Toothpaste manufacturing में इस्तेमाल में लायी जाने वाली प्रमुख मशीनरी और उपकरणों की लिस्ट इस प्रकार से है।

  • पल्वराइजर
  • आरओ वाटर प्लांट
  • स्टेनलेस स्टील लिक्विड मिक्सिंग टैंक
  • वैक्यूम मिक्सिंग मशीन
  • पेस्ट फिलिंग और सीलिंग मशीन
  • स्टोरेज टैंक
  • अन्य उपकरण और हैण्ड टूल्स  

5. Herbal Toothpaste का निर्माण कार्य शुरू करें  

ओरल केयर प्रोडक्ट विनिर्माण की यदि हम बात करें तो इसमें फ्लेवर के साथ कच्चे माल का फोर्मुलेशन बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सबसे पहले स्थानीय सप्लायर या विक्रेता से कच्चा माल खरीद लिया जाता है और उसे स्टोर रूम में स्टोर करने के लिए रख दिया जाता है। तो Herbal Toothpaste Manufacturing Process में सबसे पहले हर्बल घटकों का अर्क तैयार किया जाता है।

इसे तैयार करने के लिए काली मिर्च, तोमर के बीज, लंबे काली मिर्च, बबूल, नीम, अकरकरा इत्यादि को आवश्यक अनुपात में लेकर मिलाया जाता है और फिर इन्हें ग्राइंडर में पीसा जाता है। उसके बाद पीसे हुए इस महीन पाउडर को आरओ वाटर टैंक में मिलाया जाता है और इन टैंकों का तापमान 100 ℃ पर बनाये रखने की आवश्यकता होती है।

ताकि पानी उबलता हुआ ही रहे। इस मिश्रण को एक घंटे से लेकर 100 मिनट जितना भी उचित हो इसी अवस्था में रखा जाता है पानी के अन्दर पाउडर का निरंतर रोटेशन करने के लिए एजीटेटर का भी इस्तेमाल किया जाता है। इस प्रक्रिया के मध्यम से पानी और आयनीकरण में हर्बल सामग्री का निष्कर्षण किया जाता है उसके बाद इस पानी को छान लिया जाता है और टैंकों में जमा किया जाता है।

Herbal Toothpaste Manufacturing Process के अगले चरण में फिल्टर्ड पानी के स्टोरेज टैंक में उचित मात्रा में (0.5-2%) तक सोडियम लॉरेन सल्फेट मिलाया जाता है और एजीटेटर का इस्तेमाल करके इसे पानी के साथ अच्छी तरह मिलाया जाता है। इस प्रक्रिया में पानी भी टूथपेस्ट का एक आवश्यक अवयव है इसलिए व्यवसायिक रूप से टूथपेस्ट बनाने में इस्तेमाल में लाया जाने वाला पानी विआयनीकृत किया जाना चाहिए और कार्बनिक अशुद्धियों से भी मुक्त होना चाहिए।

इस प्रक्रिया के अगले चरण में इसमें कैल्शियम कार्बोनेट जिसके कण 0.6-30 माइक्रोन तक के हों उन्हें गैरिक पाउडर के साथ मिलाया जाता है। इन पदार्थों को दंत अपघर्षक के तौर पर जाना जाता है जिनका उपयोग दांतों की सतह पर रगड़कर इन्हें साफ़ करने के लिए किया जाता है। टूथपेस्ट के अन्य प्रमुख अवयवों में एक अवयव वह भी है।

जो इसमें नमी को बनाये रखता है इन पदार्थों का उद्देश्य हवा के संपर्क में आने पर भी टूथपेस्ट की रचनाओं को सख्त बनाये रखना है इसमें कुछ निश्चित humectants टूथपेस्ट के फ्लेवर को बदलकर उसमें मिठास इत्यादि भी प्रदान कर सकते हैं। आम तौर पर Herbal Toothpaste बनाने में humectants Substance के तौर पर Sorbitol का इस्तेमाल किया जाता है।

Sorbitol एक सुगर एल्कोहल है जो उपयुक्त मिक्सचर को अर्ध-ठोस रूप में बनाये रखने में सहायक होता है। और एजीटेटर द्वारा इस मिश्रण को लगातार घुमाया जाता है ताकि इसकी कंसंट्रेशन एक समान हो। इस प्रक्रिया के अगले चरण में पेस्ट मिश्रण और पानी को अलग अलग टैंकों से टूथपेस्ट वैक्यूम मिक्सिंग मशीन में एकत्रित किया जाता है और फिर इन्हें मिश्रित कर दिया जाता है अब इस मिश्रण में आवश्यक मात्रा में फ्लेवर मिलाया जाता है।

 इसके बाद Herbal Toothpaste को स्टोर टैंकों में संग्रहित कर दिया जाता है और फिर इन्हें आवश्यक वजन के अनुसार ट्यूबों में भर दिया जाता है इस प्रक्रिया में आटोमेटिक फिलिंग और सीलिंग मशीन का इस्तेमाल किया जाता है। प्रिंटिंग मशीनों का इस्तेमाल करके ट्यूबों पर दिनांक और अन्य विशिष्टताएँ मुद्रित की जाती हैं और उसके बाद इनकी पैकिंग करके इन्हें बाजार में बेचने के लिए उतार दिया जाता है। 

अन्य लेख भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *