बालों का तेल बनाने का बिजनेस। Hair Oil Manufacturing Business in Hindi.

Hair Oil से हमारा आशय बालों पर लगाने वाले तेल से है जी हां दोस्तों वर्तमान में बच्चे, बूढ़े, किशोर, युवा हर कोई अपने सिर के बालों की देखभाल के लिए विभिन्न प्रकार के तेलों का इस्तेमाल करते हैं । वर्तमान में ग्राहकों की मांग एवं सुविधा के अनुसार बाजार में एक नहीं बल्कि अनेकों प्रकार के तेल विद्यमान हैं लेकिन अब लोगों का ध्यान खास तौर पर आयुर्वेदिक Hair Oil की तरफ गया है।

वैसे देखा जाय तो बालों पर लगाने वाले तेलों का निर्माण वनस्पति मूल से ही होता है लेकिन वर्तमान में वनस्पति मूल के तेलों से निर्मित बालों के तेलों का ही इस्तेमाल लोगों द्वारा अधिक किया जा रहा है । हेयर आयल का निर्माण करते समय वनस्पति मूल के तेलों में थोड़ा बहुत इत्र मिला दिया जाता है ताकि इस तेल में खुशबु का गुण डाला जा सके। वनस्पति मूल के तेलों के तौर पर आम तौर पर नारियल तेल, अरंडी का तेल और तिल के तेल का इस्तेमाल किया जाता है ।

लेकिन हेयर आयल का निर्माण करने वाली कम्पनियां अपनी ब्रांड की अलग पहचान बनाने के लिए इन्हें अलग अलग रंगों में बनाती हैं ताकि ग्राहक उनके ब्रांड को आसानी से पहचान सकें। Hair Oil बड़े पैमाने पर इस्तेमाल में लाया जाने वाला उत्पाद है और इसे बनाने की प्रक्रिया भी लगभग आसान ही है इसलिए एक हेयर आयल यूनिट स्थापित करना किसी भी नए उद्यमी के लिए एक आकर्षक परियोजना प्रस्ताव हो सकता है।

आयुर्वेदिक हेयर आयल की यदि हम बात करें तो इसके बेस में हर्बल एक्सट्रेक्ट मौजूद होते हैं जैसे की स्वराज, आंवला ब्राह्मी हेयर आयल इत्यादि। इस तरह के तेल में मूल रूप से वनस्पति तेल और उपयुक्त मिश्रित इत्र शामिल हैं Hair Oil में बहुत ज्यादा कठोरता न आ जाये इसके लिए इसमें बेहद कम मात्रा में एंटीऑक्सिडेंट मिलाये जाते हैं।

हेयर आयल निर्माण में जिन परफ्यूम का इस्तेमाल किया जाता है वे जल्दी उड़ने वाले नहीं होने चाहिए इन्हें जल्दी उड़ने से बचाने के लिए सैंडल वुड आयल या अन्य फिक्सटीव का इस्तेमाल किया जा सकता है। तेल में घुलनशील रंगों के कारण तेल का रंग रंगीन हो सकता है इसलिए Hair Oil Manufacturing करते समय इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए की इस्तेमाल की जाने वाली डाई त्वचा या स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं होनी चाहिए।

वर्तमान में लोगों का आकर्षण हर्बल हेयर आयल की तरफ अधिक है क्योंकि इसके निर्माण में आँवला, सिकाकाई, मेहँदी के पत्ते, ब्राह्मी, नींबू, हरड, बहेड़ा, कपूरचरी प्रकन्द, बादाम इत्यादि का इस्तेमाल किया जाता है। उपयोग की जाने वाली सामग्री ग्राहकों की आवश्यकता एवं पसंद के अनुसार अलग अलग हो सकती है जैसे वर्तमान में आंवला हेयर आयल, ब्राह्मी- आंवला हेयर आयल, आलमंड आयल इत्यादि बाज़ारों में उपलब्ध हैं।

hair oil manufacturing hindi

हेयर आयल की बिक्री संभावना

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की Hair Oil का इस्तेमाल बच्चों से लेकर बूढों तक स्त्री से लेकर पुरुष तक सभी के द्वारा किया जाता है। लेकिन पुरुषों की तुलना में महिलाओं द्वारा बालों पर लगाने वाले तेल का इस्तेमाल अधिक किया जाता है। आम तौर पर यह माना गया है की भारत में 80% महिलाओं और 50% पुरुषों द्वारा हेयर आयल का इस्तेमाल नियमित तौर पर किया जाता है।

उत्तर पूर्वी क्षेत्र में निवासित आबादी की यदि हम बात करें तो हम पाएंगे की एक पुरुष प्रति वर्ष में लगभग 500 मिलीलीटर तेल और एक महिला 1000 मिलीलीटर बालों के तेल की खपत प्रति वर्ष कर लेती हैं। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए कहा जा सकता है की उत्तर पूर्वी क्षेत्रों में प्रति वर्ष Hair oil की खपत लाखों लीटर में है।

वर्तमान में भारतीय बाजार में टाटा, डाबर और हिंदुस्तान लीवर जैसी प्रमुख कंपनियों के हेयर आयल ब्रांड बाजार में लोकप्रिय हैं। लेकिन स्थानीय विनिर्माणकर्ता भी स्थानीय लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए इस बाजार में प्रवेश कर सकते हैं यदि वे लोगों को थोड़ी कम कीमत में अच्छी क्वालिटी का हेयर आयल दे पाने में सक्षम हो पाए तो।

हालांकि यहाँ पर कुछ इकाइयाँ ऐसी भी हैं जो आयुर्वेदिक हेयर आयल का विनिर्माण करती हैं लेकिन इनका उत्पादन मांग की तुलना में बेहद कम है या यूँ कहें की इनकी उत्पादन क्षमता सीमित है तो गलत नहीं होगा। इसलिए छोटी इकाइयों के लिए भी मौजूदा बाजार के 10% हिस्से पर कब्ज़ा करने के अवसर विद्यमान हैं।

हेयर आयल विनिर्माण बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to Start Hair Oil Manufacturing Business):

हालांकि उद्यमी द्वारा उत्पादित Hair Oil किसी गुणवत्ता का होना चाहिए इसके लिए किसी प्रकार के मानक तो किसी अधिकृत विभाग द्वारा निर्धारित नहीं किये गए हैं लेकिन इसके बावजूद क्वालिटी बाजार की आवश्यकता पर निर्भर करती है।

हालांकि इस तरह का यह बिजनेस शुरू करने के लिए कॉस्मेटिक और ड्रग कण्ट्रोल बोर्ड से लाइसेंस लेने की आवश्यकता हो सकती है और गुणवत्ता नियंत्रण के लिए उद्यमी को एक योग्य केमिस्ट नियुक्त करने की भी आवश्यकता हो सकती है।

इसके अलावा उद्यमी को जमीन का प्रबंध, वित्त का प्रबंध, लाइसेंस और पंजीकरण, मशीनरी और कच्चे माल की खरीदारी के अलावा योग्य कर्मचारियों को भी नियुक्त करने की आवश्यकता होती है तो आइये जानते हैं की कैसे कोई इच्छुक व्यक्ति खुद का Hair Oil Manufacturing बिजनेस शुरू कर सकता है। 

1. जमीन और बिल्डिंग का प्रबंध

Hair oil विनिर्माण बिजनेस के लिए कच्चे माल के तौर पर विभिन्न वानस्पतिक तेल, परफ्यूम और कलर इत्यादि की आवश्यकता हो सकती है जिनकी उपलब्धता भारत के हर क्षेत्र में आसानी से हो सकती है। इसलिए इस बिजनेस को शुरू करने के लिए उद्यमी कहीं भी ऐसी जगह पर बिल्डिंग इत्यादि का प्रबंध कर सकता है जहाँ पर भूमि गैर कृषि योग्य हो, और वहां पर बिजली, पानी, सड़क, श्रमिकों इत्यादि की आसान उपलब्धता हो।

वैसे देखा जाय तो एक औद्योगिक इकाई स्थापित करने के लिए विनिर्माण स्थल, स्टोर रूम या इन्वेंटरी रूम के लिए जगह, बिजली आपूर्ति उपयोगिताओं के लिए जगह के अलावा एक छोटा सा ऑफिस स्थापित करने के लिए भी जगह की आवश्यकता होती है। इस प्रकार से उद्यमी को 700-1200 वर्ग फीट जगह की आवश्यकता हो सकती है।    

2. वित्त का प्रबंध

वित्त का प्रबंध करने से पहले एक व्यवहारिक प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कर लें क्योंकि इसी रिपोर्ट को तैयार करके उद्यमी यह बात जानने में सक्षम हो पायेगा की उसको Hair Oil Unit स्थापित करने में कितना निवेश करने की आवश्यकता होगी।

इसके अलावा प्रोजेक्ट रिपोर्ट नामक यह दस्तावेज उद्यमी को बैंक या अन्य वित्तीय संस्थान से ऋण इत्यादि दिलाने में भी सहायक सिद्ध हो सकता है। उद्यमी चाहे तो किसी सरकारी योजना के तहत सब्सिडी ऋण, बैंक ऋण या अपनी व्यक्तिगत बचत के माध्यम से वित्त कजा प्रबंध कर सकता है।   

3. लाइसेंस और पंजीकरण

Hair oil Manufacturing Businessशुरू करने के लिए निम्नलिखित लाइसेंस और पंजीकरणों की आवश्यकता हो सकती है ।

  • रजिस्ट्रार ऑफ़ कम्पनीज में रजिस्ट्रेशन
  • जीएसटी रजिस्ट्रेशन
  • ट्रेड लाइसेंस और फैक्ट्री लाइसेंस
  • पोल्यूशन डिपार्टमेंट से एनओसी
  • कॉस्मेटिक और ड्रग बोर्ड से लाइसेंस
  • उद्यम पोर्टल रजिस्ट्रेशन
  • ब्रांड नाम और ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन

4. मशीनरी और कच्चे माल की खरीदारी

Hair Oil Unit स्थापित करने के लिए उद्यमी को निम्नलिखित मशीनरी की आवश्यकता होती है।

  • 50 किलो स्टायरर कैपेसिटी के साथ मिक्सिंग टैंक
  • बोतल वाशिंग मशीन
  • बोतल ड्रायर
  • फिलिंग मशीन
  • पी.पी. कैप सीलिंग मशीन
  • फ़िल्टरिंग उपकरण
  • अन्य उपकरण

यद्यपि Hair Oil की प्रकृति और प्रकार के आधार पर कच्चे माल की लिस्ट अंतरित हो सकती है लेकिन कुछ प्रमुख कच्चे माल की लिस्ट इस प्रकार से है।

  • कोकोनट आयल
  • कैस्टर आयल
  • परफ्यूम
  • कलर
  • आंवला एक्सट्रेक्ट
  • पैकिंग सामग्री

5. हेयर आयल निर्माण कार्य

Hair Oil Manufacturing Process में सबसे पहले आवश्यक कच्चे माल जैसे बेस आयल, हर्बल एक्सट्रेक्ट, इत्र, रंगों इत्यादि को मिक्सिंग टैंक में डाला जाता है और उसके बाद इस मिश्रण को स्टायरर की मदद से 15-20 मिनट तक अच्छी तरह से हिलाया जाता है ताकि यह मिश्रण एक दुसरे में अच्छी तरह से मिल जाय।

उसके बाद इस मिश्रण को दो तीन घंटों के लिए सेट होने के लिए छोड़ दिया जाता है जब आयल अच्छी तरह से सेट हो जाता है तो फिर इसे फ़िल्टरिंग मशीन की मदद से फ़िल्टर कर दिया जाता है। और फ़िल्टर होने के बाद इसकी टेस्टिंग और क्वालिटी चेक किया जाता है और जब यह इन टेस्ट पर खरा उतरता है तो इसकी बॉटलिंग और लेबलिंग करके मार्किट में बेचने के लिए भेज दिया जाता है।

अन्य लेख भी पढ़ें  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *