Footwear Shop यानिकी एक ऐसी दुकान जहाँ से लोग जूते चप्पल खरीद सकते हैं। जहाँ पहले जूते चप्पलों का इस्तेमाल पैरों को कंकड़, पत्थर, काँटों इत्यादि से बचाने के लिए किया जाता था। वहीँ वर्तमान में इनका इस्तेमाल फैशन के आधार पर किया जाता है अर्थात वर्तमान में लोग कोशिश करते हैं की उनके जूते चप्पलों का रंग एवं आकार उनके द्वारा पहने गए कपड़ों से मैच करे। यही कारण है की आज के युवाओं के पास एक दो जोड़ी नहीं बल्कि अनेकों जोड़ी जूते एवं चप्पल देखे जा सकते हैं।

हालांकि ग्रामीण इलाकों में जो लोग पूरी तरह से अपनी आजीविका चलाने के लिए कृषि पर निर्भर हैं। वे अभी तक एक एक जोड़ी जूते चप्पल का ही इस्तेमाल करते हैं। वर्तमान में लोग फैशन के प्रति इतने जागरूक हैं की कोई नया फैशन आते ही वे उसे अपनाने को आतुर हो जाते हैं। वर्तमान में जूते चप्पल भी अनेकों फैशनेबल डिजाईन में उपलब्ध हैं।

इसलिए इच्छुक व्यक्ति के लिए एक Footwear Shop Business शुरू करना बेहद लाभकारी हो सकता है। हालांकि कुछ दशक पहले जहाँ आम तौर पर औरतों को ही संजने, संवरने एवं फैशन करने का शौक रहता था इसी के चलते उनके पास कपड़ों के मुताबिक अनेकों जोड़े फुटवियर देखने को मिल जाते थे। लेकिन वर्तमान में पुरुष भी अपने पहनावे के मुताबिक जूते चप्पलों का रंग एवं आकार पसंद करने लगे हैं। यही कारण है की वर्तमान में एक व्यक्ति के पास केवल एक जोड़े ही जूते चप्पल न होकर अनेकों जोड़े जूते चप्पल मौजूद रहते हैं।

footwear shop business plan in hindi

जूते चप्पल की बिक्री की संभावना  

जिस तरह से मनुष्य जीवन में कपड़े भूमिका निभाते हैं ठीक उसी तरह जूते चप्पल भी मानव जीवन में मुख्य भूमिका निभाते हैं। कहने का अभिप्राय यह है की जिस प्रकार एक स्थानीय मार्किट में लोगों की कपड़ों की आवश्यकता की पूर्ति के लिए एक से अधिक कपड़े बेचने वालों की दुकान विद्यमान रहती हैं। ठीक उसी प्रकार लोगों की जूते चप्पल की मांग की पूर्ति के लिए एक से अधिक Footwear Shop भी किसी स्थानीय मार्किट में हो सकते हैं।

कहा जाता है की मनुष्य अपने पड़ोसी तो नहीं चुन सकता लेकिन जिन चीजों की उसे आवश्यकता है उनका चयन वह सोच समझकर कर सकता है। यही कारण है की जब व्यक्ति जूते चप्पल खरीदने बाजार जाता है तो वह एक से अधिक दुकानों में इसके लिए भ्रम करता है। लेकिन यदि जूते चप्पल की दुकान यानिकी Footwear Shop उसकी विश्वसनीय दुकान हो तो वह खुद तो वहीँ से खरीदारी करेगा औरों को भी वहां खरीदारी के लिए लाएगा।

जूते चप्पल के लिए देखा जाय तो अपना देश भारत भी कम बड़ी मार्किट नहीं है यही कारण है की यहाँ प्रति वर्ष लगभग 2.1 बिलियन जोड़ी जूते प्रति वर्ष बनाये जाते हैं और इनमें से लगभग नब्बे प्रतिशत इसी देश में इस्तेमाल में लाये जाते हैं। बाकी बचे हुए दस प्रतिशत जूते बाहरी देशों को निर्यात कर दिए जाते हैं। कहने का अभिप्राय यह है की Footwear Shop Business एक ऐसा व्यवसाय है जो कहीं से भी शुरू किया जा सकता है। और उद्यमी स्थानीय मार्किट में उपलब्ध लोगों को टारगेट कर सकता है।

जूते चप्पल की दुकान कैसे शुरू करें (How to Start a Footwear Shop In India): 

जूते चप्पल की दुकान यानिकी Footwear Shop का व्यापार शुरू करने की प्रक्रिया को बेहद आसान एवं सरल माना जाता है शायद इसका मुख्य कारण यह है की इस तरह की दुकान खोलने के लिए भी किसी प्रकार के लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता नहीं है।

हालांकि जैसे जैसे उद्यमी के व्यापार का आकार एवं टर्नओवर बढ़ता जायेगा उसे अनेक प्रकार के लाइसेंस जैसे टैक्स रजिस्ट्रेशन इत्यादि की आवश्यकता हो सकती है। लेकिन सच कहें तो शुरूआती दौर में इस तरह का यह व्यापार शुरू करना बिना किसी झंझटो का सामना किये आसानी से शुरू किया जा सकता है।  तो आइये जानते हैं की कैसे कोई इच्छुक व्यक्ति Footwear Shop का यह बिजनेस कैसे शुरू कर सकता है।

1. एरिया विशेष में उपलब्ध जनसँख्या का अवलोकन करें

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की Footwear Shop Business शुरू करने के लिए उद्यमी को क़ानूनी या लाइसेंसिंग रजिस्ट्रेशन इत्यादि में बहुत ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है। इसलिए उद्यमी का जो सबसे पहला कदम इस तरह का यह व्यापार शुरू करने के लिए होता है वह होता है उस एरिया विशेष में उपलब्ध जनसँख्या का अवलोकन करने का। कहने का आशय यह है की उद्यमी को अपनी टारगेट कस्टमर की जूते चप्पल सम्बन्धी पसंद नापसंद की जानकारी होना अति आवश्यक है।

ताकि वह उसी के आधार पर अपनी दुकान में जूते चप्पल इत्यादि रख पाए। जैसा की हम सब जानते हैं की बाजार में एक से बढ़कर एक महंगे जूते चप्पल एवं एक से बढ़कर एक सस्ते जूते चप्पल मौजूद हैं। इसलिए जिस एरिया में उद्यमी खुद की Footwear Shop खोलना चाहता है उद्यमी को उनकी कमाई, खर्च करने की क्षमता, जूते चप्पलों की पसंद, नापसंद के बारे में जानकारी होना अनिवार्य है। किसी पॉश इलाके में सस्ते जूते चप्पल जिनकी क्वालिटी अच्छी न हो का चल पाना बड़ा कठिन हो सकता है।

उसी प्रकार एक ऐसा एरिया जहाँ पर लोगों की कमाई कम, एवं खर्च करने की क्षमता कम हो वहां पर महंगे जूते चप्पलों को अपनी दुकान का हिस्सा बनाना कहीं से कहीं तक समझदारी नहीं है। इसलिए उद्यमी जिस एरिया में जूते चप्पल की दुकान शुरू करना चाहता है उस एरिया में विशेष में मौजूद जनसँख्या का विभिन्न बातों को लेकर अवलोकन करना अत्यंत आवश्यक हो जाता है।

2. प्रतिद्वंदियों को पहचानें (Know your Competitor to success in Footwear Shop Business)

अब उद्यमी का अगला कदम उस एरिया विशेष में उपलब्ध अपने प्रतिद्वंदियों को पहचानने का होना चाहिए। अर्थात Footwear Shop Business कर रहे उद्यमी को अपने प्रतिद्वंदियों यानिकी जिनकी जूते चप्पल की दुकान उस स्थानीय मार्किट में पहले से है के बारे में लगभग सब कुछ जानने की कोशिश करनी चाहिए। सब कुछ से हमारा अभिप्राय उनके निजी जीवन से नहीं अपितु उनके द्वारा की जाने वाली व्यवसायिक गतिविधियों से है।

वे माल कहाँ से खरीदते हैं? कितने में खरीदते हैं? कितना खरीदते हैं? और ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए क्या क्या स्कीम चलाते हैं? क्या उनके पास ग्राहक ख़ुशी ख़ुशी आते हैं या फिर उस एरिया में उनके पास और कोई विकल्प ही नहीं है? ग्राहकों के प्रति उनका व्यवहार कैसे रहता है? क्या ग्राहक उनकी कीमत एवं प्रदान की जाने वाली गुणवत्ता से खुश हैं? इत्यादि प्रश्नों का उद्यमी को जवाब पाने की कोशिश करनी चाहिए।    

3. दुकान किराये पर लें

उद्यमी को दुकान किसी ऐसी जगह पर किराये पर लेनी चाहिए जहाँ पर हमेशा आने जाने वालों की भीड़ भाड़ देखने को मिलती हो। जी हाँ कहने का आशय यह है की उद्यमी को अपनी Footwear Shop खोलने के लिए किसी व्यस्त इलाके का चयन करना चाहिए। यदि उस व्यस्त इलाके में कभी कोई साप्ताहिक बाजार आयोजित होता हो तो उद्यमी को बिना देर किये उस एरिया में दुकान किराये पर ले लेनी चाहिए।

कहने का आशय यह है की स्थानीय मार्किट में उद्यमी दुकान किराये पर लेने की सोच सकता है लेकिन वह विशेष जगह हमेशा आने जाने वाले लोगों से व्यस्त रहती हो। दुकान किराये पर लेते वक्त रेंट एग्रीमेंट इत्यादि कराना न भूलें ताकि उसे पता प्रमाण के तौर पर उपयोग में लाया जा सके।     

4. सप्लायर का चुनाव करें (Select a Supplier for Your Footwear Shop )

दुकान किराये पर लेने के पश्चात एवं इंटीरियर का कार्य पूर्ण करने के बाद उद्यमी का अगला काम अपने Footwear Shop के लिए सप्लायर ढूँढने का होना चाहिए। वैसे तो उद्यमी को स्थानीय स्तर पर ही सप्लायर ढूंढना चाहिए क्योंकि स्थानीय सप्लायर से उद्यमी कभी भी माल मंगवा सकता है और डिफेक्टिव माल उसे वापस भी आसानी से कर सकता है।

लेकिन यदि उसे किसी अन्य शहर के सप्लायर से भी अच्छी डील मिल रही है और उद्यमी को लग रहा है की उसकी लोकेशन तक माल स्थानीय सप्लायर द्वारा ऑफर की गई कीमत से कम में पहुँच जायेगा तो वह इसके बारे में भी विचार कर सकता है।

इसके अलावा अपनी दुकान में उद्यमी को सिर्फ उसी कंपनी के फुटवियर रखने चाहिए जो वहां पर बिकते हों हालांकि उद्यमी ब्रांडेड एवं लोकल दोनों तरह के फुटवियर को अपनी दुकान का हिस्सा बना सकता है। लेकिन यदि उद्यमी किसी आय वर्ग विशेष के लोगों को ही टारगेट करके अपनी Footwear Shop Business शुरू करना चाहता है तो फिर उद्यमी उसी आधार पर ब्रांड इत्यादि का चयन करके माल खरीद सकता है।     

5. जूते चप्पल बेचें और कमायें

अब अगला कदम उद्यमी का सिर्फ और सिर्फ अपने जूते चप्पल बेचकर कमाई करने का होना चाहिए इसके लिए यदि उद्यमी को लगता है की उसके ग्राहक स्थानीय लोग हैं तो उसे उनके बीच जूते चप्पल की कीमत एवं गुणवत्ता को लेकर विश्वास बनाना होगा। यह इसलिए जरुरी है क्योंकि अक्सर देखा गया है की लोगों को जिस दुकान में उचित दामों पर अधिक गुणवत्ता वाली वस्तु मिलती है वे उस दुकान की तारीफ करते नहीं थकते। और देखते ही देखते उस दुकान का नाम उस एरिया में फेमस होने लग जाता है।

इसलिए Footwear Shop Business शुरू करने वाले उद्यमी को क्षणिक लाभ के लिए किसी स्थानीय ग्राहक को नाराज करना सही नहीं होगा। इसके अलावा उद्यमी चाहे तो उस एरिया में लगने वाले साप्ताहिक बाज़ारों में भी अपने जूते चप्पलों की प्रदर्शनी लगाकर उन्हें बेच सकता है। शुरू में उद्यमी को केवल और केवल ग्राहकों के बीच कीमत एवं गुणवत्ता को लेकर विश्वास बनाने के बारे में सोचना होगा न की लाभ कमाने के बारे में। यदि उद्यमी ग्राहकों के बीच विश्वास बनाने में कामयाब हो गया तो उसके लिए कमाई के दरवाजे स्वत: ही खुल जायेंगे।

अन्य भी पढ़ें

10 Comments

  1. Avatar for Mohanlal chouhan Mohanlal chouhan
    January 20, 2021
    • Avatar for Tinchurajput Tinchurajput
      January 26, 2021
    • Avatar for Deepak Kumar Deepak Kumar
      May 15, 2021
      • Avatar for Editorial Staff Editorial Staff
        May 30, 2021
        • Avatar for Rajuram Rajuram
          October 4, 2021
    • Avatar for Parasram darshima Parasram darshima
      September 29, 2021
  2. Avatar for Rajkamal Rajkamal
    February 17, 2021
  3. Avatar for Santosh Murudkar Santosh Murudkar
    April 27, 2021
  4. Avatar for Ruttik Thakare Ruttik Thakare
    July 4, 2021
  5. Avatar for sukhveer jatav sukhveer jatav
    December 21, 2021

Leave a Reply

Your email address will not be published

error: Content is protected !!