फ्लेक्स प्रिंटिंग बिजनेस कैसे शुरू करें. Flex Printing Business Plan in Hindi.

Flex Printing की महत्वता के बारे में आप इसी बात से अंदाजा लगा सकते हैं, की आप जब घर से बाहर निकलते होंगे तो आपको सड़क के किनारे, चौराहों, बड़ी बड़ी होर्डिंग इत्यादि स्थानों पर विभिन्न बैनर लगे हुए मिल जायेंगे । जी हाँ ये बैनर फ्लेक्स बैनर होते हैं और वर्तमान में ये आउटडोर एडवरटाइजिंग के प्रमुख आवश्यक आइटम में से एक हैं। यही कारण है की सिर्फ कम्पनियां अपने उत्पाद की एडवरटाइजिंग इत्यादि के लिए फ्लेक्स बैनर का सहारा नहीं लेती, अपितु छोटे बड़े सभी दुकानदार, व्यवसायिक प्रतिष्ठान, धार्मिक, राजनैतिक, सामाजिक सभी प्रकार के संगठनों द्वारा समय समय पर Flex Printing की मदद लोगों तक अपनी बात पहुँचाने के लिए ली जाती है। वैसे देखा जाय तो वर्तमान में होने वाली हर प्रकार की समाजिक एवं व्यक्तिगत सभाएं प्रिंटिंग मीडिया जैसे फ्लेक्स बैनर, साइनेज, एडवरटाईजमेंट पोस्टर, इनविटेशन कार्ड इत्यादि की मांग को बहुत अधिक बढ़ा रही हैं। इसमें कोई दो राय नहीं की लोगों की इस प्रिंटिंग सम्बन्धी मांगों को उच्च मशीनीकृत एवं कंप्यूटरीकृत प्रिंटिंग इकाई द्वारा पूर्ण किया जा सकता है। एक ग्राफ़िक प्रिंटिंग इकाई की बात करें तो यह इकाई अपने ग्राहकों को अपने उत्पादों एवं सेवाओं के साथ साथ लगभग हर प्रिटिंग मीडिया प्रदान करने में सक्षम होती है । इसमें लगभग सभी प्रकार के प्रिंटिंग मीडिया Low End प्रिंटिंग से लेकर हाई क्वालिटी प्रिंटिंग मीडिया शामिल हैं। ऐसे में इच्छुक व्यक्ति जो खुद का व्यवसाय शुरू करने के बारे में विचार कर रहा हो वह Flex Printing Business शुरू करने के बारे में भी विचार कर सकता है। क्योंकि उद्यमी इस तरह के बिजनेस को अपने बजट एवं निवेश करने की क्षमता के मुताबिक छोटे या बड़े किसी भी स्तर पर शुरू कर सकता है।

Flex Printing Business Plan in Hindi

फ्लेक्स प्रिंटिंग बिजनेस क्या है (What is Flex Printing Business)

फ्लेक्स की यदि हम बात करें तो इस सामग्री को पौली विनाइल क्लोराइड के नाम से भी जाना जाता है यह प्लास्टिक जैसी एक सामग्री होती है । इसका टिकाऊपन एवं सस्ती कीमत इसे डिस्प्ले की एक बेहतरीन सामग्री बनाती है। यही कारण है की कम्पनियों, प्रतिष्ठानों, दुकानों इत्यादि द्वारा आउटडोर एडवरटाइजिंग के लिए फ्लेक्स बैनर का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर किया जाता है। इसलिए एक ऐसा उद्यमी जो लोगों को फ्लेक्स बैनर में प्रिंटिंग प्रदान करने का काम करता है उसके द्वारा किया जाने वाला यह काम ही Flex Printing Business कहलाता है। फ्लेक्स प्रिंटिंग व्यवसाय करने वाला उद्यमी अपने ग्राहकों को कई अन्य तरह की प्रिंटिंग सुविधाएँ जैसे साइनेज प्रिंटिंग, विजिटिंग कार्ड प्रिंटिंग, इनविटेशन कार्ड प्रिंटिंग इत्यादि भी प्रदान कर रहा होता है।

बिजनेस के चलने की संभावना

हालांकि ऐसे शहर, नगर इत्यादि में इस तरह के व्यवसाय को चलाना कठिन नहीं है जहाँ कम्पनी एवं औद्योगिक इकाइयों की भरमार हो। क्योंकि इन शहरों में लगातार कोई न कोई व्यवसायिक प्रतिष्ठान एवं अन्य संगठन कुछ न कुछ गतिविधि करते रहते हैं जिनमें इन्हें Flex Printing करने की आवश्यकता होती ही होती है। हमारे देश भारत में फ्लेक्स एवं बैनर का बाजार तेजी के साथ आगे बढ़ रहा है। इसके अलावा इसमें कोई दो राय नहीं की फ्लेक्स बैनर नामक यह आइटम आउटडोर ही नहीं इनडोर एडवरटाइजिंग के लिए सबसे लोकप्रिय उपकरणों में से एक है। इसकी मांग भारत के हर महानगर दिल्ली, मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, चेन्नई और कोलकाता सहित सभी शहरों में लगतार बढती हुई देखी जा सकती है। Flex Printing Business करने वाले उद्यमी के संभावित ग्राहकों में क्षेत्रीय एवं राष्ट्रीय राजनैतिक दल भी हैं जिन्हें हर कार्यक्रम एवं रैली के लिए सैकड़ों हजारों फ्लेक्स बैनर का इस्तेमाल करने की आवश्यकता होती रहती है। कम्पनियां एवं व्यवसायिक प्रतिष्ठान भी अपने कई उद्देश्यों की पूर्ति के लिए फ्लेक्स बैनर का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल करते हैं। फ्लेक्स की यदि हम बात करें तो यह आउटडोर मीडिया विज्ञापन के लिए एकमात्र साधन है। इन सबके अलावा सभी प्रकार के स्कूल, अन्य शैक्षणिक संस्थान एवं खेल संगठन भी लगभग अपने हर कार्यक्रम में फ्लेक्स बैनर का इस्तेमाल करते हुए देखे जा सकते हैं। इन सब बातों से स्पष्ट है की Flex Printing की घरेलु बाजार में अच्छी खासी मांग है इसलिए वर्तमान में इस तरह का व्यवसाय शुरू करना इच्छुक उद्यमी के लिए लाभकारी साबित हो सकता है।

फ्लेक्स प्रिंटिंग बिजनेस कैसे शुरू करें (How to Start Flex printing Business):

Flex Printing Business को उद्यमी अपनी निवेश क्षमता के आधार पर किसी भी स्तर छोटे, माध्यम एवं बड़े स्तर पर शुरू कर सकता है। वैसे देखा जाय तो शुरूआती दौर में जब सब कुछ अनिश्चित ही होता है तो उद्यमी को छोटे स्तर से ही इस व्यवसाय की शुरुआत करनी चाहिए और जैसे जैसे काम बढ़ने लगे वैसे वैसे इसे भी बढ़ाते रहना चाहिए। तो आइये जानते हैं की कैसे कोई इच्छुक व्यक्ति खुद का फ्लेक्स प्रिंटिंग बिजनेस शुरू कर सकता है।

1. लोकल रिसर्च जरुरी

लोकल रिसर्च में उद्यमी को अनेकों बातों का पता लगाकर उनका विश्लेषण करने की आवश्यकता होती है और उस विश्लेषण के मुताबिक ही निर्णय लेने की भी आवश्यकता होती है।  Flex Printing Business करने वाले उद्यमी के मुख्य ग्राहक के तौर पर राजनैतिक पार्टियों के स्थानीय नेता, कार्यकर्ता, व्यवसायिक संस्थान, शैक्षणिक संस्थान इत्यादि हो सकते हैं। इसलिए उद्यमी को उस एरिया विशेष में इनकी संख्या का आकलन अवश्य करना चाहिए। इसके अलावा क्या उस एरिया विशेष में पहले से कोई इस तरह का व्यवसाय तो नहीं कर रहा यदि हाँ तो उद्यमी की अपने व्यवसाय को उससे बेहतर प्रतिस्पर्धात्मक स्तर पर रखने की क्या योजना है? और उद्यमी अपने संभावित ग्राहकों को कैसे आकर्षित करेगा इस बात का भी विश्लेषण आवश्यक हो जाता है।     

2. जगह का प्रबंध (Land and Building for Flex Printing Business)

लोकल रिसर्च करने के बाद यदि उद्यमी लोकल रिसर्च में प्राप्त परिणामों से संतुष्ट है और वह अब भी Flex Printing Business करने के लिए अडिग है तो उसे अब अपने व्यवसाय के लिए जगह या बनी बनाई दुकान का प्रबंध करने की आवश्यकता होगी। इस तरह की इकाई का स्थानीय बाजार में होना अति आवश्यक है क्योंकि लोग किसी भी प्रकार की खरीदारी के लिए स्थानीय बाजार में आना ही पसंद करते हैं किसी सुनसान इलाके में इस तरह का व्यवसाय शुरू करना ठीक नहीं होगा। चूँकि उद्यमी शुरूआती स्तर पर छोटे स्तर से ही इस व्यवसाय को शुरू करेगा इसलिए उसे बहुत बड़ी जगह की आवश्यकता इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए नहीं होगी । जगह का प्रबंध यदि रेंट या लीज के माध्यम से किया जा रहा हो तो इसकी औपचारिकतायें अर्थात रेंट या लीज एग्रीमेंट बनाना भी आवश्यक हो जाता है। क्योंकि इस दस्तावेज को विभिन्न लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन प्रक्रियाएं पूर्ण करने के दौरान व्यवसायिक पता प्रमाण के तौर पर इस्तेमाल में लाया जा सकता है ।   

3. आवश्यक लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन

Flex Printing Business करने के लिए उद्यमी अपने व्यवसाय को वैधानिक स्वरूप प्रदान करने के लिए रजिस्ट्रार ऑफ़ कम्पनीज में प्रोप्राइटरशिप के तहत रजिस्टर करा सकता है। इस एंटिटी के तहत रजिस्ट्रेशन में उद्यमी को बहुत अधिक औपचारिकतायें करने की आवश्यकता नहीं होती, और बहुत सारे सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटने की भी आवश्यकता नहीं होती। इसके अलावा उद्यमी को जीएसटी रजिस्ट्रेशन, बैंक में चालू खाते इत्यादि की भी आवश्यकता हो सकती है।    

4. मशीनरी एवं उपकरण

मशीनरी एवं उपकरणों की यदि हम बात करें तो Flex Printing के लिए बाजार में तरह तरह की मशीनें उपलब्ध हैं। इसलिए उद्यमी अपनी विशेष आवश्यकता के अनुसार अपने लिए मशीनरी का चुनाव खुद कर सकता है। यहाँ पर ऐसे ऐसे मशीन भी उपलब्ध होती हैं जो विभिन्न सतह जैसे लकड़ी, बोर्ड, कागज़, कपड़ा, थर्माकोल इत्यादि पर भी प्रिंटिंग की आज्ञा देती हैं। इसलिए यदि उद्यमी चाहता है की वह न सिर्फ फ्लेक्स प्रिंट करे, बल्कि सभी प्रकार की प्रिंटिंग कार्य को पूर्ण करे तो उसे उसी के मुताबिक मशीन का चुनाव करने की आवश्यकता होगी। मशीनरी के अलावा उद्यमी को कंप्यूटर एवं नार्मल प्रिंटर की भी आवश्यकता होगी। और हो सकता है उद्यमी को ग्राफ़िक डिजाईन इत्यादि से जुड़े कुछ प्रसिद्ध सॉफ्टवेयर भी खरीदने की आवश्यकता हो।       

5. कच्चा माल एवं कर्मचारी

कच्चे माल के तौर पर उद्यमी को फ्लेक्स की तो आवश्यकता होती ही है लेकिन यदि उद्यमी अपनी इकाई में Flex Printing के अलावा साइनेज प्रिंटिंग, कार प्रिंटिंग, पोस्टर प्रिंटिंग इत्यादि भी करना चाहता है, तो उसे इन्हीं के मुताबिक कच्चे माल की आवश्यकता होगी। प्रिंटिंग व्यवसाय में उपयोग में लाया जाने वाला कच्चा माल किसी भी स्थानीय बाजार में आसानी से उपलब्ध होता है लेकिन उद्यमी चाहे तो सप्लायर का चुनाव ऑनलाइन वेबसाइट के माध्यम से भी कर सकता है। जहाँ तक कर्मचारियों का सवाल है उद्यमी को कम से कम एक ग्राफ़िक डिज़ाइनर एवं एक प्रिंटिंग मशीन संचालक तो नियुक्त करने ही होंगे। और ये दोनों स्किल एवं अनुभवी होने चाहिए क्योंकि इस व्यवसाय की सफलता के लिए इनका अनुभवी एवं कुशल होना अति आवश्यक है।     

6. बिजनेस को प्रमोट करें (Promote Your Flex Printing Business):

बिना प्रमोशन के शायद ही कोई व्यवसाय आज की तारीख में सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ पायेगा कहने का आशय यह है की Flex Printing Business की सफलता के लिए भी इसका प्रमोशन करना बेहद जरुरी है। चूँकि इस व्यवसाय में उद्यमी को उसकी टारगेट ग्राहकों के बारे में ज्ञात है, इसलिए उद्यमी बेहद कम बजट में भी अच्छे रिजल्ट ला सकता है। इसके लिए उद्यमी को अपने संभावित ग्राहकों के बीच ऑनलाइन एवं ऑफलाइन हर तरीके के प्रमोशन को आजमाने की आवश्यकता हो सकती है। उद्यमी सोशल मीडिया से लेकर, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन, गूगल एड इत्यादि का सहारा ले सकता है। और अपनी संभावित ग्राहकों के बीच अपने व्यवसाय के पोस्टर, पम्पलेट, विजिटिंग कार्ड इत्यादि भी बंटवा सकता है। उस एरिया विशेष के राजनैतिक कार्यकर्ताओं, स्थानीय नेताओं, उद्यमियों, व्यवसायिक प्रतिष्ठानों से भी Flex Printing से सम्बंधित कामों को प्राप्त करने के लिए संपर्क कर सकता है।

अन्य लेख भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *