बात जब बिजनेस की आती है, तो हमें यह समझने की जरुरत होती है की समय के साथ और लोगों की आवश्यकताओं के अनुरूप व्यापार एवं व्यापार करने के तरीकों को भी बदलना अति आवश्यक हो जाता है। भले ही आपका बिजनेस वर्षों या दशकों से क्यों न चल रहा हो, लेकिन उसके लिए अपने ग्राहकों को जानना और समय के साथ इनोवेटिव होना बेहद महत्वपूर्ण है।

वैसे देखा जाय तो हर व्यवसाय का अपने काम को करने का तरीका अलग अलग होता है, लेकिन यह भी जरुरी नहीं है की जो तरीका आज काम कर रहा हो, वह हमेशा ऐसे ही काम करता रहेगा। वह इसलिए क्योंकि बदलते वक्त के साथ लोगों के रहन सहन में परिवर्तन होता है, तो उनकी आवश्यकताओं में भी परिवर्तन होता है। और जब लोगों की आवश्यकताओं में परिवर्तन होता है तो स्वभाविक है की ग्राहकों की माँग में भी बदलाव होता रहता है।

इसलिए कोई भी उद्यमी जो अपना मौजूदा व्यापार कर रहा हो, उसके लिए अपने व्यवसाय के तरीकों में बदलाव का सही समय वो नहीं होता, जब उसके ग्राहक उसे ऐसा करने के लिए बोलने लगें। बल्कि उनको बोलने का अवसर नहीं मिलना चाहिए, उससे पहले ही जरुरी बदलाव कर देने चाहिए। तभी वे आपके साथ लम्बे समय तक बने रहेंगे। इसलिए यदि आप वर्षों से अपना कोई बिजनेस कर रहे हैं, लेकिन अभी तक आपके किसी ग्राहक ने आपको ऑनलाइन उपलब्धता बनाने के लिए नहीं कहा है।

business ko online shift kaise kare

तो इसका मतलब यह बिलकुल नहीं है की आपको अपने बिजनेस को ऑनलाइन शिफ्ट करने के बारे में नहीं सोचना चाहिए। जैसा की हम सब जानते हैं की वर्तमान में डिजिटलीकरण ने पूरी दुनिया के मार्किट को ग्राहकों के सामने ला खड़ा कर दिया है। ऐसे में सभी व्यवसायों के लिए अपनी ऑनलाइन उपलब्धता बनाना और अपने बिजनेस को ऑनलाइन शिफ्ट करना अत्यंत आवश्यक हो गया है।

आज हम हमारे इस लेख में यही जानने का प्रयत्न करेंगे की कैसे कोई मौजूदा उद्यमी जो वर्षों, दशकों से व्यवसाय कर रहा है, वह अपने बिजनेस को ऑनलाइन कैसे कर सकता है।

बिजनेस को ऑनलाइन शिफ्ट कैसे करें

यदि आप वर्षों दशकों से अपना व्यवसाय कर रहे हैं, लेकिन आपको नहीं पता की आप अपने बिजनेस को ऑनलाइन करने के लिए क्या क्या कर सकते हैं। तो यहाँ पर हम सिलसिलेवार तरीके से स्टेप बाई स्टेप आपको यही बताने का प्रयत्न करेंगे की, कैसे आप अपने मौजूदा व्यवसाय को ऑनलाइन शिफ्ट कर बदलते जमाने के साथ अपने बिजनेस को भी बदल सकते हैं।

1. अपने बिजनेस का मूल्यांकन करें  

सबसे पहले अपने बिजनेस की प्रकृति के बारे में जानें, क्या आप कोई ऐसा सामान बेच रहे हैं, जो लोग ऑनलाइन खरीदना पसंद करते हैं? या फिर आप कोई ऐसा सामान बेच रहे हैं, जिसे ग्राहक लोकल मार्किट से ही खरीदना पसंद करते हैं इसमें उदाहरण के तौर पर सीमेंट स्टोर, क्रेशर प्लांट एवं अन्य बिल्डिंग मटेरियल की दुकानें हो सकती हैं। इसके अलावा क्या आपका बिजनेस नियमों के मुताबिक रजिस्टर है जैसे जीएसटी रजिस्ट्रेशन, स्थानीय प्राधिकरण रजिस्ट्रेशन एवं यदि खाद्य पदार्थों से सम्बंधित व्यवसाय है तो फ़ूड लाइसेंस इत्यादि।

2. किसी प्रसिद्ध ई कॉमर्स वेबसाइट में विक्रेता के तौर पर रजिस्टर करें

यदि आपका बिजनेस स्थानीय, राष्ट्रीय नियमों के मुताबिक रजिस्टर है, और जीएसटी रजिस्ट्रेशन भी है। तो आप शुरूआती दौर में किसी प्रसिद्ध ई कॉमर्स पोर्टल जैसे अमेजन, फ्लिप्कार्ट, स्नेपडील, मीशो इत्यादि पर विक्रेता बनकर अपने उत्पादों को बेच सकते हैं। हालांकि यदि आपका विचार बाहर देशों में भी इन पोर्टल के माध्यम से अपना सामान बेचने का है तो आपके पास इम्पोर्ट एक्सपोर्ट कोड होना चाहिए।

3. बिजनेस नाम के मुताबिक डोमेन खरीदें

अपने बिजनेस को पूरी तरह ऑनलाइन शिफ्ट करने की तरफ अब आपका अगला कदम डोमेन नाम खरीदने का होना चाहिए। ध्यान रहे डोमेन नाम आपके बिजनेस के नाम के सामान ही होना चाहिए। वर्तमान में सैकड़ों डोमेन रजिस्ट्रार कम्पनी हैं जिनमें Godaddy, Bigrock, NameCheap इत्यादि प्रमुख हैं। डोमेन नाम को आप विभिन्न रजिस्ट्रार से रूपये 199 से 1199 रूपये तक में एक वर्ष के लिए खरीद सकते हैं।

अगले साल इस डोमेन नाम को आपको फिर से रिन्यू कराने की आवश्यकता होती है। कुछ होस्टिंग प्रोवाइडर होस्टिंग के साथ फ्री डोमेन भी उपलब्ध कराते हैं। इसलिए आप चाहें तो ऐसे विकल्प भी तलाश कर सकते हैं। यदि आपको आपके बिजनेस नाम जैसा ही डोमेन नहीं मिल रहा है, तो आप एक्सटेंशन बदलकर या अन्य मिलते जुलते नामों का डोमेन खरीदने की कोशिश कर सकते हैं।

4. अपनी खुद की वेबसाइट बनाएँ

जब आपके द्वारा अपने बिजनेस को ऑनलाइन शिफ्ट करने के उद्देश्य से डोमेन खरीद लिया जाता है, तो उसके बाद अगला कदम खुद की वेबसाइट बनाने का होना चाहिए। वैसे आप चाहें तो इस काम के लिए किसी वेब डेवलपर को भी हायर कर सकते हैं। लेकिन यदि आपको वर्डप्रेस इत्यादि की जानकारी है तो आप खुद भी अपनी वेबसाइट को विकसित कर सकते हैं। अपनी वेबसाइट विकसित करने से पहले आपको एक होस्टिंग की आवश्यकता होती है। जो आपको आपके ऑनलाइन कंटेंट रखने के लिए आपको सर्वर मुहैया कराते हैं।

वर्तमान में सैकड़ों होस्टिंग प्रोवाइडर हैं, इसलिए आपको एक अच्छी होस्टिंग का चुनाव करने के लिए उपयुक्त समय लेने की आवश्यकता होती है। आप विभिन्न रिव्यू वेबसाइट और यूट्यूब चैनलों के माध्यम से इस बात का पता लगाने की कोशिश कर सकते हैं, की आपकी आवश्यकता के अनुरूप आपके लिए सबसे उपयुक्त होस्टिंग कौन सी रहेगी।

5. वेबसाइट की डिजाईन पर काम करें

अपने बिजनेस को ऑनलाइन शिफ्ट कराने के लिए वेबसाइट बनाने हेतु भले ही आपने कोई वेब डेवलपर हायर किया हुआ हो, या फिर आप खुद ही वर्डप्रेस या किसी अन्य CMS के माध्यम श्र खुद की वेबसाइट खुद ही विकसित कर रहे हों। आपको वेबसाइट की डिजाईन तो खुद ही फाइनल करनी होगी। वर्तमान में चाहे वर्डप्रेस हो, या फिर कोई अन्य प्लेटफोर्म में सैकड़ों फ्री टेम्पलेट की पेशकश की जाती है। आप इन फ्री टेम्पलेट में से अपनी आवश्यकता और पसंद के मुताबिक टेम्पलेट का चयन करके अपनी वेबसाइट का डिजाईन विकसित कर सकते हैं।

कुछ आधारभूत चीजें जो हर एक टेम्पलेट में होती हैं उनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।

  • अपने बिजनेस का लोगो लगाने का विकल्प, जहाँ पर डिफ़ॉल्ट लोगो के स्थान पर उद्यमी को खुद के बिजनेस का लोगो लगाना होता है।
  • अपनी पसंद के मुताबिक मेनू, बैकग्राउंड कलर, फॉण्ट इत्यादि चेंज करने का विकल्प मिलता है।
  • वेबसाइट के विभिन्न पेजों से डमी कंटेंट हटाने और खुद का कंटेंट पब्लिश करने का विकल्प भी मिलता है।
  • हैडर और फूटर में सोशल मीडिया लिंक एड करने का आप्शन भी मिलता है।
  • ईमेल sign up form या लिंक डिस्प्ले करने का भी विकल्प होता है।
  • अपने कंटेंट जैसे विडियो, प्रोडक्ट, पिक्चर इत्यादि को दिखाने का भी विकल्प होता है।       

  6. अपनी वेबसाइट में कंटेंट एड करें

अब यदि उद्यमी द्वारा अपनी वेबसाइट का डिजाईन विकसित कर दिया गया हो, तो अब अगला कदम उस वेबसाइट में कंटेंट जोड़ने का होना चाहिए। क्योंकि यहाँ पर ग्राहक आपके वेबसाइट में ही प्रोडक्ट की इमेज या विडियो देखकर आपके प्रोडक्ट को खरीदने वाला होता है। इसलिए आपकी वेबसाइट में उपलब्ध कंटेंट आपके बिजनेस का दर्पण है, जो ग्राहकों को इसके बारे में बताएगा।

इसके लिए उद्यमी को चाहिए की वह अपनी वेबसाइट में उत्कृष्ट कंटेंट को ही जोड़े, जिससे लोग उसके बिजनेस और उत्पादों के बारे में अच्छी राय बनाने को मजबूर हो जाएँ। आम तौर पर आपकी वेबसाइट में निम्नलिखित पेज होने आवश्यक होते हैं।

  • मुख्य पृष्ठ (Home Page)
  • हमारे बारे में (About us)
  • पेश की जाने वाली उत्पाद या सेवा का पेज
  • रिटर्न और रिफंड पालिसी का पेज
  • संपर्क करें पेज (Contact Us Page)     

7. वेबसाइट में पेमेंट मेथड एड करें

अपने बिजनेस को ऑनलाइन शिफ्ट कराने की राह में सबसे अहम् कदम यही है। चूँकि इसमें ग्राहक ऑनलाइन खरीदारी करते हैं, तो उन्हें विभिन्न प्रकार के पेमेंट विकल्प भी चाहिए होते हैं। इसलिए उद्यमी को ऑनलाइन पेमेंट स्वीकृत करने और ट्रान्सफर करने के लिए एक पेमेंट गेटवे के साथ टाई अप करने की आवश्यकता होती है। ये पेमेंट गेटवे आपके हर ट्रांजेक्शन पर कुछ न कुछ चार्ज करते हैं।

हमारे देश भारत में भी अनेकों पेमेंट गेटवे जैसे Citrus, CCAvenue, PayUBiz India , Direcpay, Bill Desk इत्यादि हैं। इनका चुनाव करते समय उद्यमी को इनके द्वारा प्रति ट्रांजेक्शन लिया जाने वाला कमीशन और सर्विस का विशेष तौर पर ध्यान रखना होगा। जो उद्यमी को लिमिट ज्यादा, पेमेंट आप्शन अधिक जैसे क्रेडिट/डेबिट कार्ड, नेट बैंकिंग, यूपीआई पेमेंट, कैश ओं डिलीवरी की सर्विस और चार्जेज कम ले उद्यमी उस पेमेंट गेटवे के साथ जा सकता है।       

8. अपने बिजनेस का विज्ञापन करें

उद्यमी द्वारा अपना बिजनेस पूरी तरह ऑनलाइन शिफ्ट कर दिया गया हो, तो अब उसे अपने प्रोडक्ट/सर्विस या व्यवसाय को अधिक लोगों तक पहुँचाने और अपनी बिक्री बढ़ाने के उद्देश्य से ऑनलाइन माध्यमों का इस्तेमाल विज्ञापन के लिए करना चाहिए। उद्यमी चाहे तो निम्नलिखित माध्यमों से अपने बिजनेस को और प्रोडक्ट को अधिक लोगों तक पहुँचाकर अपनी बिक्री में इजाफा कर सकता है।

  1. अपने ग्राहकों की एक सूची बनाएँ, जिसमें उनके फ़ोन नंबर से लेकर ईमेल एड्रेस इत्यादि तक सब मौजूद हों। और जरुरत पड़ने पर इन ईमेल एड्रेस का इस्तेमाल अपने प्रोडक्ट/सेवा के विज्ञापनों के लिए करें।
  2. सभी सोशल मीडिया प्लेटफोर्म जैसे फेसबुक, इन्स्टाग्राम, पिंटरसेट, लिंक्डइन, ट्विटर इत्यादि पर अपने बिजनेस का पेज बनाकर उसमें नियमित पोस्ट करें। और जरुरत पड़ने पर फेसबुक एड इत्यादि चलाकर भी अधिक से अधिक ग्राहकों को अपने सोशल मीडिया पेज पर जोड़ें।
  3. अपनी वेबसाइट में अलग सा एक ब्लॉग सेक्शन विकसित करें, और उसमें अपने प्रोडक्ट या सर्विस से मिलते जुलते आर्टिकल नियमित तौर पर प्रकाशित करें। इससे धीरे धीरे आपकी वेबसाइट को सर्च इंजन में स्थान मिलेगा, और आपके द्वारा लिखे आर्टिकल रैंक होने पर आपको इसका फायदा मिलेगा। सर्च इंजन के माध्यम से ग्राहकों तक पहुँचने के लिए आप गूगल एड का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  4. इन्फ्लुएंसर यानिकी ऐसे लोग जिनकी सोशल मीडिया, यूट्यूब, या ब्लॉग्गिंग में काफी अच्छी फैन फोल्लोविंग हो। और उनकी बात को लोग सुनते भी हों, और मानते भी हों ऐसे लोगो से टाई अप करके भी आप अपने प्रोडक्ट या सेवा की बिक्री में इजाफा करके काफी लाभ अर्जित कर सकते हैं।   

वर्तमान समय डिजिटलीकरण का समय है, इसलिए यदि आपने अभी तक अपने व्यवसाय को ऑनलाइन शिफ्ट नहीं किया है, या फिर उसकी ऑनलाइन उपलब्धता नहीं बनायीं है। तो हो सकता है की आप इस प्रतिस्पर्धा की दौड़ में बहुत पीछे रह जाएँ। इसलिए ऐसे उद्यमी जो प्रोडक्ट बिक्री कर रहे हों, उन्हें कम से कम उस क्षेत्र विशेष में प्रचलित किसी ई कॉमर्स प्लेटफोर्म में अपने आपको विक्रेता कजे तौर पर तो अवश्य रजिस्टर कराना चाहिए।

अन्य भी पढ़ें

मार्केटिंग क्या है? मार्केटिंग के बेस्ट तरीके.

डिजिटल मार्केटिंग क्या है? इसके प्रकार एव फायदे.

error: Content is protected !!