कम लागत में शुरू करें झाड़ू बनाने का व्यापार.Broom Making Business in Hindi.

Broom Making  यानिकी झाडू बनाने के इस व्यवसाय की बात करना यहाँ पर इसलिए बेहद जरुरी हो जाता है क्योंकि यह एक ऐसा व्यवसाय है। जिसे बेहद कम निवेश के साथ आसानी से शुरू किया जा सकता है और झाड़ू एक ऐसा उत्पाद है जिसका इस्तेमाल हर घर, फैक्ट्री, ऑफिस, संस्थान, होटल, हॉस्पिटल इत्यादि सभी में किया जाता है। यहाँ तक की झाड़ू का इस्तेमाल विभिन्न सामूहिक स्थानों जैसे मॉल, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड इत्यादि की सफाई के लिए भी किया जाता है। कहने का आशय यह है की वर्तमान में भले ही सार्वजनिक स्थानों की सफाई वैक्यूम इत्यादि से की जाती हों लेकिन जो संस्थान, कार्यालय इत्यादि वैक्यूम का इस्तेमाल करते हैं वे झाड़ू का भी इस्तेमाल अवश्य करते हैं। झाडू सफाई एवं स्वच्छता बरक़रार रखने का एक बेहद पारम्परिक उपकरण है जिसकी व्यवहारिकता समय के साथ बढती गई है। इसलिए ऐसे उद्यमी जो कम लागत में एक लाभकारी बिजनेस की तलाश में हों उनके लिए Broom Making Business यानिकी झाड़ू बनाने का व्यवसाय शुरू करना एक अच्छा विचार हो सकता है। इस तरह के व्यवसाय को शुरू करने के अनेकों फायदे होते हैं लेकिन जो एक सबसे बड़ा फायदा इस बिजनेस को शुरू करने का है वह यह है की उद्यमी इस व्यवसाय को बिना किसी भारी भरकम मशीनों के बिना केवल कुछ छोटे उपकरणों का इस्तेमाल करके इस व्यवसाय को शुरू कर सकता है। और झाड़ू के निर्माण करने में जिस तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है वह समझने में बेहद आसान एवं सरल है। इसलिए इस तरह के इस व्यवसाय को कोई भी यहाँ तक की एक अशिक्षित व्यक्ति भी आसानी से शुरू कर सकता है। जैसा की हम सब जानते हैं की झाडू का इस्तेमाल सदियों से धूल, मिटटी इत्यादि को साफ़ करने के लिए किया जाता है और आज भी भले ही सफाई के एक से बढ़कर एक यंत्र बाजार में आ गए हों लेकिन झाड़ू की जगह अभी कोई नहीं ले सका है। इसलिए वर्तमान में Broom Making Business शुरू करना एक अच्छा विचार हो सकता है।

Steps to start broom making business hindi
Steps to start broom making business hindi

झाड़ू बनाने का व्यापार क्या है (What is Broom Making Business):

हालांकि ग्रामीण भारत में आज भी अपनी झाड़ू की आवश्यकताओं की पूर्ति लोगों द्वारा स्वयं कर ली जाती है। अर्थात जिस घर को झाड़ू की आवश्यकता होती है वह एक विशेष घास एवं कुछ पेड़ के पत्तों से भी स्वयं ही झाड़ू बना लेते हैं और उसे ही उपयोग में लाते हैं। ऐसे में यदि कोई उनसे Broom Making Business के बारे में कहे तो शायद वे समझ नहीं पाएंगे की अमुक व्यक्ति उनसे कहना क्या चाहता है। इसलिए यहाँ पर यह स्पष्ट कर देना जरुरी हो जाता है की झाड़ू बनाने का व्यापार क्या होता है। झाड़ू एक ऐसा गृहउपयोगी आइटम है जो फर्श की सफाई एवं दीवारों से धूल इत्यादि को निकालने में भी मददगार होता है। वर्तमान में यह बाजार में प्रमुख रूप से दो स्वरूपों सीक झाड़ू एवं फूल झाड़ू के तौर पर उपलब्ध होता है। जहाँ सीक झाड़ू का इस्तेमाल पानी वाली जगहों एवं बाहर आँगन इत्यादि की सफाई के लिए किया जाता है। वहीँ फूल झाड़ू का इस्तेमाल अन्दर के फर्श इत्यादि को साफ़ करने के लिए किया जाता है। इन दोनों को बनाने में अलग अलग विशेष प्रकार की घास का इस्तेमाल किया जाता है जो अधिकतर जंगल एरिया में पाई जाती है। चूँकि झाड़ू की आवश्यकता सफाई कर्मियों, घरेलु महिलाओं इत्यादि सभी को होती है इसलिए जब किसी उद्यमी द्वारा इन्हीं आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर झाड़ू बनाकर बेची जाती हैं तो उसके द्वारा किया जाने वाला यह व्यवसाय Broom Making या झाड़ू बनाने का व्यापार कहलाता है ।

झाड़ू की मांग (Demand of broom)

जैसा की हम सब अच्छी तरह से जानते हैं की झाडू लगभग सभी घरों में इस्तेमाल में लाया जाने वाला एक सामान्य सा आइटम है। और इसका इस्तेमाल फर्श की सफाई एवं धूल इत्यादि को हटाने के लिए किया जाता है। और इस बात से शायद कोई अंजान नहीं है की हमें घरों को ही साफ़ करने की आवश्यकता नहीं होती बल्कि हम जहाँ भी जाते हैं चाहे वह कोई सार्वजनिक स्थान हो या फिर व्यक्तिगत ऑफिस हो या मॉल, रेलवे स्टेशन हो या बस स्टैंड, मेट्रो हो या एअरपोर्ट, गली हो या सड़क  हर जगह सफाई कर्मचारी मिलते हैं जो अपने हाथों में बड़े डंडे वाले झाड़ू का इस्तेमाल करके सफाई कर रहे होते हैं। कहने का आशय यह है की ऐसा कोई स्थान या संस्थान नहीं है जहाँ सफाई के लिए झाड़ू की आवश्यकता नहीं होती हो यही कारण है की बड़े बड़े सुपर बाजार, गली मोहल्लों में स्थित किरयाना स्टोरों इत्यादि में झाड़ू के बण्डल बेचने के लिए रखे हुए होते हैं। झाड़ू की मांग सर्वत्र होने के कारण Broom Making Business बेहद ही लाभकारी बिजनेस के तौर पर उभर सकता है।

झाड़ू बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें (How to Start a Broom Making Business)     

झाड़ू बनाने का व्यापार यानिकी Broom Making Business आज भी बेहद छोटे स्तर अर्थात कुटीर उद्योग के तौर पर आदिवासी लोगों द्वारा किया जा रहा है। इसलिए उद्यमी चाहे तो इसे बेहद छोटे स्तर पर बेहद कम निवेश के साथ भी शुरू कर सकता है तो आइये जानते हैं की कैसे कोई व्यक्ति खुद का यह व्यवसाय कैसे शुरू कर सकता है।

1. स्थानीय स्तर पर रिसर्च करें

झाड़ू बनाने का व्यापार शुरू करने से पहले उद्यमी को स्थानीय स्तर पर रिसर्च करने की आवश्यकता होती है। इसमें उद्यमी को यह जानना होता है की उस एरिया विशेष में झाड़ू की मांग क्या रहने वाली है और लोग अपना झाड़ू कब कब बदलते हैं। इसमें तो कोई दो राय नहीं की झाडू का इस्तेमाल हर घर में ही नहीं बल्कि हर संस्थान में भी किया जाता है लेकिन जहाँ तक घर की बात है उद्यमी को इस बात की जानकारीभी प्राप्त करने की कोशिश करनी चाहिए की उस एरिया विशेष में रहने वाले लोगों की नए झाड़ू खरीदने की आदत क्या है। अर्थात बहुत सारे लोग होते है जो झाड़ू की तीलियाँ ख़त्म होने बाद भी उसी पुरानी झाड़ू से काम चलते हैं तो वहीँ कुछ लोग उसे तुरंत बदल देते हैं । और व्यवसायिक संस्थानों में झाड़ू घरों की तुलना में बेहद जल्दी बदली जाती है। इसलिए उद्यमी यह भी पता लगाना होगा की उस एरिया विशेष में व्यवसायिक संस्थानों की संख्या क्या है? Broom Making Business  के तभी सफल होने की संभावना अधिक है जब स्थानीय एरिया में झाड़ू की मांग अच्छी खासी हो। इसके अलावा उद्यमी को उस एरिया विशेष में प्रतिस्पर्धा के आंकड़ों को भी जुटाने की आवश्यकता होगी ताकि उसे प्रतिस्पर्धी मूल्य निर्धारण करने में भी सहायता प्रदान हो सके। इन सबके अलावा Broom Making Business शुरू करने वाले उद्यमी को यह भी पता करना चाहिए की उस एरिया में कच्चे माल की उपलब्धता की क्या स्थिति है यदि उस एरिया में कच्चा माल उपलब्ध नहीं होगा तो इस व्यवसाय को वहां पर शुरू करने में अनेकों चुनौतियां आ सकती हैं।    

2. जगह का प्रबंध करें (Land for Broom Making Business)

अब यदि Broom Making Business शुरू करने वाले व्यक्ति ने स्थानीय स्तर पर रिसर्च पूर्ण कर दी हो और उस रिसर्च के आधार पर यदि उद्यमी आगे बढ़ना चाहता हो। तो अब उसका अगला कदम अपने व्यवसाय के लिए जगह का प्रबंध करने का होना चाहिए। यद्यपि इस तरह का यह व्यवसाय उद्यमी अपने घर के किसी खाली कमरे से भी शुरू कर सकता है लेकिन यदि ऐसा नहीं है तो वह एक छोटा सा कमरा सस्ते में किराये पर भी ले सकता है। लेकिन ध्यान रहे किराये पर लेते वक्त रेंट एग्रीमेंट इत्यादि अवश्य कर लें। क्योंकि इस दस्तावेज को पता प्रमाण के तौर पर इस्तेमाल में लाया जा सकेगा। एक 10×10 कमरे को उद्यमी दो भागों काम करने का एरिया एवं कच्चे माल के स्टोर के तौर पर विभाजित किया जा सकता है।       

3. आवश्यक कच्चा माल एवं उपकरणों का प्रबंध

Broom Making Business शुरू करने के लिए कच्चे माल के तौर पर झाड़ू बनाने वाली घास, स्टील या लोहे की पतली पट्टी जिसका इस्तेमाल झाड़ू की तिल्लियों को एकत्र रखने के लिए किया जाता है। एवं पैकेजिंग सामग्री की आवश्यकता होती है। जहाँ तक उपकरणों का सवाल है उद्यमी को ब्रूम कटर की आवश्यकता होती है जिसका काम झाड़ू की कटिंग करके उसे झाड़ू का स्वरूप प्रदान करने का होता है। कहने का आशय यह है की कच्चे माल के तौर पर उद्यमी को झाड़ू बनाने वाली घास जो की जंगल में पायी जाती है, डोरी, प्लास्टिक के बॉटम कवर या फिर स्टील लोहे की पतली पट्टी एवं पैकेजिंग सामग्री की आवश्यकता हो सकती है । और मशीनरी के तौर पर कटिंग मशीन की आवश्यकता होती है।     

4. झाड़ू बनायें और बेचें ( Start Broom Production and Sell them)

झाड़ू बनाने की तकनीक बेहद आसान एवं सरल है शायद यही कारण है की जंगलों के आस पास रहने वाले आदिवासी व्यक्तिगत तौर पर भी झाड़ू का निर्माण करके इन्हें बेच पाते हैं। Broom Making Business  में सर्वप्रथम झाड़ू बनाने वाली घास को जंगल या खेतों से काट लिया जाता है और फिर इन्हें सुखाया जाता है। सुखाने के बाद इसे कटर मशीन से काट लिया जाता है और उसके बाद झाड़ू की विभिन्न तिल्लियों को एकत्रित करके बंडल बनाया जाता है और इस बंडल के नीचे वाले भाग को डोरी इत्यादि की मदद से कसकर बाँध दिया जाता है और फिर इसे प्लास्टिक कवर या स्टील लोहे की पतली चादर इसके निचले वाले भाग पर लपेट दी जाती है ताकि इसे आसानी से पकड़ा जा सके। यह दर्शायी विधि मैन्युअल है लेकिन वर्तमान में यह काम करने के लिए सेमी आटोमेटिक, आटोमेटिक लगभग हर तरह की मशीन उपलब्ध हैं। Broom Making Business करने वाला उद्यमी चाहे तो ग्रामीण महिलाओं को काम पर रख सकता है इसका उसे यह फायदा होगा की उसे सस्ती दरों पर श्रमिक मिल जायेंगे और उन्हें वहां रोजगार मिल जायेगा। उद्यमी निर्मित झाड़ूओं को नज़दीकी सुपर मार्किट, किरयाना स्टोर, कंपनी इत्यादि में हाउसकीपिंग मटेरियल सप्लाई करने वाली कम्पनियों को भी बेच सकता है।

अन्य लेख भी पढ़ें

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *