ब्यूटी पार्लर बिजनेस कैसे शुरू करें। Beauty Parlor Business Plan in Hindi.

Beauty Parlor नामक यह शब्द लगभग हर गली मोहल्ले में एक आम शब्द हो गया है अर्थात आज इसकी जरुरत लोगों को इतनी अधिक हो गई है की लगभग हर गली मोहल्ले में एक से अधिक ब्यूटी पार्लर देखे जा सकते हैं। जहाँ पहले अपने देश भारत में यह व्यापार शहरों तक ही सिमित था वहीँ वर्तमान में ग्रामीण इलाकों में भी लड़कियां एवं महिलाएं अपनी व्यक्तिगत सुन्दरता देखभाल के लिए ब्यूटी पार्लर में जाना पसंद करते हैं। इसलिए वर्तमान में सुन्दरता देखभाल की यह प्रणाली समाज के हर वर्ग द्वारा सहर्ष अपनाई जाती है ।

यद्यपि संजना संवरना महिलाओं एवं पुरुषों दोनों को अच्छा लगता है लेकिन पुरुषों के मुकाबले Beauty Parlor के ग्राहक के तौर पर महिलाएं ही अधिक देखी जाती हैं इसलिए इस तरह का यह बिजनेस आम तौर पर महिला उद्यमियों के लिए ही उपयुक्त माना जाता है। चूँकि इस तरह के व्यापार को शुरू करने में बहुत अधिक निवेश करने की भी आवश्यकता नहीं होती है।

इसलिए एक ऐसी महिला जिसने इस तरह का कोई कोर्स किया हो या फिर व्यवहारिक ज्ञान प्राप्त किया हो वह इस तरह का यह बिजनेस यानिकी Beauty Parlor आसानी से शुरू कर सकती हैं। सिर्फ महिलाएं ही नहीं बल्कि कॉलेज जाने वाली लड़कियां भी इस तरह का यह व्यापार साइड बिजनेस के तौर पर शुरू कर सकती हैं।

beauty parlor business in hindi

ब्यूटी पार्लर क्या है (What is a Beauty Parlor) 

वैसे देखा जाय तो ब्यूटी पार्लर नामक यह शब्द किसी परिचय का मोहताज तो नहीं है और लगभग सभी लोग जानते होंगे की यह क्या होता है । लेकिन यदि आप इस शब्द से अभी तक अनभिज्ञ हैं और जानना चाहते हैं की यह होता क्या है। तो एक ऐसा स्थान या दुकान जहाँ पैसे लेकर महिलाओं एवं लड़कियों की हेयरड्रेसिंग, फेशियल, मैनीक्योर, पेडीक्योर, वैक्सिंग, आईब्रो शेप, ब्राइडल मेकअप इत्यादि की जाती हैं Beauty Parlor कहलाता है।

कहने का अभिप्राय यह है की एक ब्यूटी पार्लर पुरुषों और महिलाओं के लिए कॉस्मेटिक उपचार प्रदान करने के लिए स्थापित एक प्रतिष्ठान है। वैसे यहाँ पर यह स्पष्ट कर देना अत्यंत आवश्यक है की ब्यूटी पार्लर जेंट्स एवं लेडीज दोनों हो सकते हैं लेकिन पुरुषों की तुलना में महिलाएं ही इस व्यापार की प्रमुख ग्राहक होती हैं। इसलिए आम तौर पर इस तरह की व्यापारों को कोई महिला ही चला रही होती हैं।

ब्यूटी पार्लर व्यापार के चलने की संभावना

भारत में नौजवानों की संख्या सबसे अधिक होने के कारण यहाँ के लोगों की आँखों में सपने भी सबसे अधिक पलते हैं। यहाँ पर नौजवानों की बहुसंख्यक जनसँख्या भले ही नौकरी इत्यादि कार्यों में लिप्त हो लेकिन उनका सपना खुद का बिजनेस शुरू करके संभ्रांत आदमी बनने का होता है। लेकिन यदि कोई महिला उद्यमी या फिर कोई नौजवान Beauty Parlor के इस बिजनेस को गंभीरता से शुरू करना चाहता है तो उसे जहाँ वह यह व्यापार शुरू करने की सोच रहा है उस क्षेत्र विशेष में महिलाओं एवं लड़कियों की संख्या का अनुमान लगाये तो बेहतर होता है।

क्योंकि पुरुषों की तुलना में महिलाओं को संजने, संवरने का अधिक शौक रहता है। यही कारण है की जहाँ प्राचीनकाल में महिलाएं अपनी त्वचा को सुन्दर बनाने के लिए हल्दी, चन्दन, दूध का इस्तेमाल किया करती थी। वहीँ वर्तमान में तकनीक एवं जागरूकता बढ़ने के कारण लोग न सिर्फ अपने चेहरे का अपितु हर एक अंग का चाहे वे बाल हों, नाख़ून हों, होंठ हों, हाथ हों, पैर हों सभी को सुन्दर एवं आकर्षक बनाने के लिए तरह तरह के कॉस्मेटिक उपचार लेने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

यही कारण है की आज Beauty parlor लोगों के जीवन में एक आवश्यकता बन गए हैं। आज सिर्फ शहरों में ही नहीं ग्रामीण इलाकों में भी दुल्हन इत्यादि को किसी नजदीकी ब्यूटी पार्लर में ले जाकर ही सजाया जाता है। इन सब बातों के मद्देनजर कहा जा सकता है की ब्यूटी पार्लर व्यापार शुरू करना कमाई की दृष्टी से बेहद लाभकारी हो सकता है।

ब्यूटी पार्लर बिजनेस कैसे शुरू करें (How to Start Beauty Parlor Business in India)

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की Beauty Parlor का व्यापार शुरू करने के लिए उद्यमी को अधिक पैसे खर्च करने की आवश्यकता तो नहीं होती है। लेकिन इस तरह का यह व्यापार शुरू करने के लिए अच्छे स्किल की आवश्यकता होती है अर्थात इस व्यापार को केवल वही महिला या पुरुष शुरू कर सकते हैं जिन्हें इस तरह का यह काम आता हो या फिर उन्होंने इस विषय पर कोई कोर्स इत्यादि पूर्ण किया हो।

जी हाँ जिसको इस व्यापार की जानकारी नहीं, उसके लिए इस तरह का यह व्यापार शुरू करना लाभ की जगह हानि प्रदान करने वाला हो सकता है। तो आइये जानते हैं की कैसे कोई महिला या पुरुष खुद का ब्यूटी पार्लर बिजनेस शुरू कर सकता है।

1. ब्यूटी पार्लर कोर्स करें (Complete Beauty Parlor Course)

Beauty Parlor का यह व्यापार वैसे तो कोई भी व्यक्ति या महिला शुरू कर सकते हैं लेकिन यदि वे चाहते हैं की उनका यह व्यापार भविष्य में अपने पैर जमा पाने में सक्षम हो पाए और वे इसके माध्यम से कमाई कर पाने में सक्षम हो पायें। तो इस तरह के इस व्यापार को केवल और केवल उन्हीं पुरुष या महिलाओं द्वारा शुरू किया जाना चाहिए जिन्हें इसका काम आता हो। लेकिन यदि आपको ब्यूटी पार्लर का काम नहीं आता है तो आप चाहें तो इसका कोर्स कर सकते हैं या फिर कोई प्रशिक्षण कार्यक्रम ज्वाइन कर सकते हैं जो इस तरह का काम सीखने में सहयक हों।

वैसे देखा जाय तो महिला उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए विभिन्न सरकारी संस्थान जैसे खादी ग्रामोद्योग, कृषि विज्ञान केंद्र इत्यादि द्वारा भी इस तरह के कामों को सीखने के लिए प्रशिक्षण आयोजित कराये जाते हैं। इसके अलावा लगभग हर प्रसिद्ध एवं प्रचलित ब्यूटी पार्लर द्वारा भी लोगों को इसका प्रशिक्षण दिया जाता है इसलिए व्यक्ति को चाहिए की वह अपने एरिया में स्थित किसी प्रसिद्ध ब्यूटी पार्लर से ट्रेनिंग इत्यादि के बारे में बात करे।     

2. अच्छी लोकेशन का चुनाव करें

यद्यपि देखा जाय तो Beauty Parlor नामक यह बिजनेस की मांग आज न केवल शहरों में बल्कि ग्रामीण इलाकों में भी है लेकिन ग्रामीण इलाकों में अभी भी इसकी मांग सीमित है । अर्थात जब कोई त्यौहार, शादी या फिर कोई अन्य आयोजन होता है आम तौर पर गाँव में तभी लड़कियां एवं महिलाएं ब्यूटी पार्लर का रुख करती हैं।

ग्रामीण इलाकों में महिलाएं एवं लड़कियां नियमित तौर पर इसका रुख इसलिए नहीं कर सकती क्योंकि यहाँ उनकी आय या कमाई के साधन भी सिमित है इसलिए उनकी इस तरह की चीजों पर खर्च करने की क्षमता भी बेहद कम है। इसलिए ग्रामीण इलाकों में सिर्फ वे महिलाएं जिन्हें यह काम आता हो वे अपने घर से ही इस तरह के बिजनेस को साइड बिजनेस के तौर पर संचालित कर सकती हैं। लेकिन हम किसी को जगह या दुकान किराये पर लेकर ग्रामीण इलाकों में इस तरह का यह व्यापार शुरू करने की सलाह नहीं देते हैं।

इसलिए लोकेशन का चयन करते समय उद्यमी को इस बात का ध्यान रखना अति आवश्यक है उस एरिया में रहने वाले लोगों की खर्च करने की क्षमता और महिला एवं लड़कियों की संख्या कितनी है। चूँकि इस व्यापार में उद्यमी के मुख्य ग्राहक के तौर पर महिलाएं एवं लडकियाँ ही रहने वाली हैं इसलिए जिस एरिया में इनकी संख्या एवं इनके खर्च करने की क्षमता अधिक होगी उस एरिया में Beauty Parlor Business की संभावना उतनी अधिक होगी।        

3. दुकान किराये पर लें

Beauty Parlor के लिए उपयुक्त लोकेशन का चयन करने के बाद उद्यमी का अगला कदम अब उस लोकेशन पर एक दुकान किराये पर लेने का होना चाहिए जहाँ से वह अपने व्यापार को आसानी से संचालित कर सके। हालांकि आम तौर पर देखा गया है की इस तरह का व्यापार शुरू करने वाली महिला उद्यमी अपने घर से ही इस तरह का बिजनेस संचालित करना पसंद करती हैं। लेकिन यह महिला उद्यमी को तभी करना चाहिए जब उसका घर एक अच्छी लोकेशन पर उपलब्ध हो और जहाँ पर ग्राहकों को आने जाने में कोई परेशानी न आये।

अन्यथा दुकान किराये पर लेना ही बेहतरीन विकल्प है हाँ दुकान किराये पर लेते वक्त रेंट एग्रीमेंट अवश्य बना लेना चाहिए। इसके अलावा दुकान में रेनोवेशन काम भी कराने की आवश्यकता होती है। इसमें अलग प्रक्रियाओं जैसे हेयर ड्रेसिंग, मैनीक्योर, पेडीक्योर इत्यादि के लिए अलग अलग जगह निर्धारित करने की भी आवश्यकता होती है।

ताकि जो ग्राहक जो सेवा की मांग करे उसे वह आसानी से उपलब्ध करायी जा सके। इसके अलावा ग्राहकों के लिए इंतजार कक्ष या बैठने की भी उचित व्यवस्था होनी चाहिए। उद्यमी चाहे तो Beauty parlor Designing के लिए किसी ऐसे आर्किटेक्ट को नियुक्त कर सकता है जिसे इस तरह के कार्य करने में अनुभव प्राप्त हो।      

4. आवश्यक उपकरण एवं कच्चा माल खरीदें

अब यदि उद्यमी द्वारा दुकान किराये पर लेने के अलावा डिजाइनिंग एवं डेकोरेशन का कार्य भी पूर्ण कर लिया गया हो तो अब उसका अगला कदम आवश्यक उपकरण एवं कच्चा माल खरीदने का होना चाहिए। लेकिन Beauty Parlor Business में इस्तेमाल में लायी जाने वाली मशीनरी एवं उपकरणों की लिस्ट पार्लर द्वारा दी जाने वाली सर्विसेज के आधार पर अंतरित हो सकती है । लेकिन इसके बावजूद हम कुछ उपकरणों की लिस्ट यहाँ पर दे रहे हैं।

व्यवसायिक ब्यूटी सैलून उपकरण जैसे स्किन एनालाइजर, स्किन टेस्टर इत्यादि

  • मसाज करने की कुर्सी
  • टॉवल वार्मर
  • फेस एंड हेयर स्टीमर
  • पेडीक्योर स्टूल, यूरो स्टूल इत्यादि
  • इलेक्ट्रिक बेड
  • वैक्स हीटर
  • ब्यूटी पार्लर चेयर
  • हेयर प्रेसिंग आयरन और कर्लिंग टोंग
  • वाटर फाउंटेन
  • हेयर ड्रायर
  • ड्रेसिंग टेबल
  • रेफ्रीजिरेटर
  • फिटिंग एंड फर्नीचर

कच्चे माल की लिस्ट

  • हर्बल क्रीम
  • विभिन्न साबुन
  • तरह तरह के शैम्पू
  • तरह तरह के फेस क्रीम
  • फेस पैक
  • हेयर आयल
  • लोशन
  • मसाज आयल
  • हिना पाउडर
  • थ्रेडिंग के लिए धागा
  • पाउडर
  • बालों पर लगने वाले कलर
  • नेल पॉलिश
  • वैक्स
  • नैपकिन
  • टॉवल
  • स्टाइलिंग कैप
  • शावर कैप
  • हेडबैंड
  • वैक्स मेल्टर

5. मेनू का निर्णय लें (Decide your Beauty parlor menu)

हालांकि उद्यमी चाहे तो मेनू का निर्णय पहले भी ले सकता है और फिर उसी आधार पर मशीनरी उपकरण एवं कच्चा माल इत्यादि खरीद सकता है। कहने का आशय यह है की Beauty Parlor business कर रहे उद्यमी को इस बात का निर्णय लेना बेहद आवश्यक होता है की वह अपने ग्राहकों को क्या क्या सर्विस प्रदान करेगा।

और प्रत्येक सर्विस के लिए कितनी कीमत वसूलेगा और क्या उसके द्वारा निर्धारित कीमत उसके ग्राहकों को पसंद आएगी इसके लिए उद्यमी उस एरिया में स्थित ब्यूटी पार्लर के रेट की जानकारी लेकर अपने रेट मेनू में निर्धारित कर सकता है। हालांकि यह तो उद्यमी पर निर्भर करेगा की वह अपने ग्राहकों को क्या सर्विस देगा लेकिन आम तौर पर Beauty Parlor द्वारा अपने ग्राहकों को निम्न सर्विसेज प्रदान की जाती हैं।

  • मिनी फेसिअल
  • कोर फेसिअल
  • मैनीक्योर
  • नेल रिपेयर
  • पेडीक्योर
  • वैक्सिंग
  • आईब्रो वैक्स  
  • आईब्रो शेप
  • फोरआर्म वैक्सिंग
  • एब्डोमेन वैक्सिंग
  • ब्राइडल मेकअप
  • मसाज  

6. स्टाफ नियुक्त करें और मार्केटिंग करें  

अब उद्यमी का अगला कदम अपने Beauty parlor Business के आकार के अनुरूप स्टाफ की नियुक्ति करने का होना चाहिए। उद्यमी को दो ब्यूटिशियन, एक हेल्पर की आवश्यकता हो सकती है। इसके अलावा उद्यमी कुछ ऐसी महिलाओं एवं लड़कियों से भी काम करवा सकता है जो वहां पर प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए आये हों। स्टाफ की नियुक्ति के पश्चात उद्यमी का पूरा ध्यान अपने व्यापार को प्रमोट करने में होना चाहिए इसके लिए वह विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन मार्केटिंग तकनीक का उपयोग कर सकता है। 

अन्य भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *